Saturday, June 15, 2024
34.1 C
New Delhi

Rozgar.com

34.1 C
New Delhi
Saturday, June 15, 2024

Advertisementspot_imgspot_imgspot_imgspot_img

कर्नाटक हाईकोर्ट ने यौन उत्पीड़न मामले में राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री की गिरफ्तारी पर रोक लगा दी

बेंगलूरू कर्नाटक हाईकोर्ट ने यौन उत्पीड़न मामले में राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा की गिरफ्तारी पर रोक लगा दी है। कोर्ट ने उनको राहत...
HomeWorld Newsबॉर्डर पर भारतीय सैनिकों के बढ़ने से बौखलाया चीन, बोला-'ज्यादा सैनिकों से...

बॉर्डर पर भारतीय सैनिकों के बढ़ने से बौखलाया चीन, बोला-‘ज्यादा सैनिकों से तनाव कम नहीं होगा’

नई दिल्ली
 चीन पहले उकसाता है और जवाबी कार्रवाई हो तो धमकियां देने पर उतर जाता है। बीते चार वर्षों से वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर उसने अपने सैनिकों को अग्रिम मोर्चे पर तैनात कर रखा है और जब भारत वहां अपने सैनिकों को बढ़ाने लगा तो उसे मिर्ची लग रही है। चीनी विदेश मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने कहा है कि भारत के इस कदम से सीमा पर तनाव कम करने में मदद मिलेगी। भारत ने चीन के साथ अपनी सीमा सुरक्षा को मजबूत करने के लिए बड़ी संख्या में सैनिकों को तैनात किया है।

चीन की सीमा पर पहुंचे और 10 हजार सैनिक

नाम न छापने की शर्त पर वरिष्ठ भारतीय अधिकारियों ने खुलासा किया कि पहले पाकिस्तान से सटी पश्चिमी सीमा पर तैनात 10 हजार सैनिकों की एक यूनिट को चीन के साथ सीमा के एक हिस्से की रक्षा के लिए फिर से नियुक्त किया गया है। इसके अतिरिक्त, विवादित चीनी सीमा के लिए शुरू में नामित 9,000 सैनिकों का एक मौजूदा समूह अब एक नए स्थापित लड़ाकू कमान का हिस्सा होगा। यह एकीकृत बल चीन के तिब्बत क्षेत्र को भारतीय राज्यों उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश से अलग करने वाली 532 किलोमीटर (330.57 मील) लंबी सीमा की सुरक्षा के लिए जिम्मेदार होगा।

चार साल से तनावपूर्ण हैं रिश्ते

भारत और चीन के बीच संबंध 5 मई, 2020 से तनावपूर्ण रहे हैं, जब उनकी साझा सीमा पर विभिन्न स्थानों पर टकराव और झड़पें हुई थीं। ये घटनाएं लद्दाख के पैंगोंग झील, तिब्बत स्वायत्त क्षेत्र और सिक्किम और तिब्बत स्वायत्त क्षेत्र के बीच की सीमा के पास हुईं। मई के अंत में तनाव और बढ़ गया जब चीन ने गलवान नदी घाटी में भारत के सड़क निर्माण पर आपत्ति जताई।

45 साल बाद एलएसी पर चली थीं गोलियां

45 वर्षों में पहली बार सितंबर 2020 में वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर गोलियां चलीं। भारतीय मीडिया ने यह भी बताया कि भारतीय सैनिकों ने 30 अगस्त, 2020 को पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) पर चेतावनी भरे शॉट्स फायर किए थे। कई दौर की सैन्य-राजनयिक वार्ता में शामिल होने के बावजूद तनाव को हल करने में प्रगति धीमी रही है। तनावपूर्ण संबंधों के जवाब में भारत ने देश के भीतर चीनी निवेश और व्यावसायिक उद्यमों को हतोत्साहित करने के लिए कानून लागू किए हैं।

सतर्क रहे भारत

भारत ने घातक झड़प के बाद 2021 में चीन के साथ अपनी सीमा की निगरानी के लिए अतिरिक्त 50 हजार सैनिकों को तैनात किया। इसके बाद राजनयिक संबंध और तनावपूर्ण हो गए। चीन और भारत दोनों ने सीमावर्ती क्षेत्रों में अपने सैन्य बुनियादी ढांचे को बढ़ाने के लिए कदम उठाए हैं, जिसमें मिसाइलों और विमानों को स्थानांतरित करना और अतिरिक्त सैनिकों को तैनात करना शामिल है।