17.9 C
New Delhi
Thursday, February 22, 2024

Advertisementspot_imgspot_imgspot_imgspot_img
HomeSukhpal Singh Khaira की गिरफ्तारी पर आम आदमी पार्टी ने दी पहली...

Sukhpal Singh Khaira की गिरफ्तारी पर आम आदमी पार्टी ने दी पहली प्रतिक्रिया, ड्रग्स केस में हुई गिरफ्तारी। 

Aam Aadmi Party gave its first reaction on the arrest of Sukhpal Singh Khaira.

पंजाब पुलिस ने 2015 के मादक पदार्थ मामले के संबंध में बृहस्पतिवार को कांग्रेस विधायक सुखपाल सिंह खैरा को हिरासत में ले लियाSukhpal Singh Khaira की गिरफ्तारी पर आम आदमी पार्टी ने दी पहली प्रतिक्रिया, ड्रग्स केस में हुई गिरफ्तारी।

पंजाब में कांग्रेस विधायक सुखपाल सिंह खेहरा को पुलिस ने गुरुवार को गिरफ्तार कर लिया. 8 साल पुराने एनडीपीएस के मामले में उनकी गिरफ्तारी हुई है. अब इस पर आम आदमी पार्टी ने पहली प्रतिक्रिया दी है. पार्टी के राज्यसभा सांसद सुशील कुमार गुप्ता ने कहा कि सुखपाल सिंह खैरा नशे के कारोबारी हैं. कानून अपना काम कर रहा है।

पंजाब पुलिस ने 2015 के मादक पदार्थ मामले के संबंध में बृहस्पतिवार को कांग्रेस विधायक सुखपाल सिंह खैरा को हिरासत में ले लिया. विधायक के परिवार के सदस्यों ने यह दावा किया. हालांकि, खैरा को हिरासत में लिए जाने पर अभी तक कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है।

विधायक के परिवार के एक सदस्य ने फेसबुक पर ‘लाइव’ आकर दिखाया कि पंजाब पुलिस की एक टीम खैरा को पकड़ने के लिए उनके आवास पर पहुंची है. वीडियो में खैरा पुलिस टीम के साथ बहस करते और गिरफ्तारी वारंट दिखाने को कह रहे हैं. विधायक छापेमारी करने वाले टीम में शामिल पुलिस अधिकारियों से उनकी पहचान भी पूछते नजर आ रहे हैं।

फाजिल्का के जलालाबाद ले जाया गया?
जब खैरा ने पुलिस टीम से पूछा कि उन्हें कहां ले जाया जा रहा है तो एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि उन्हें फाजिल्का के जलालाबाद ले जाया जा रहा है। भगवंत मान सरकार की आलोचना करते हुए कांग्रेस विधायक ने दावा किया कि उन्हें फर्जी मामले में पकड़ा जा रहा है और राज्य में ‘‘जंगल राज’’ चल रहा है।

मादक पदार्थ से जुड़ा यह मामला मार्च 2015 में फाजिल्का के जलालाबाद में दर्ज किया गया था. इसमें नौ लोगों के खिलाफ मामले दर्ज किये गए थे और बाद में उन्हें स्वापक औषधि और मन:प्रभावी पदार्थ (एनडीपीएस) अधिनियम के तहत दोषी ठहराया गया था.

उच्चतम न्यायालय ने 2017 में खैरा के खिलाफ निचली अदालत की कार्यवाही पर रोक लगा दी थी, जिसे मामले में अतिरिक्त आरोपी के तौर पर तलब किया गया था।