27.1 C
New Delhi
Friday, March 1, 2024

Advertisementspot_imgspot_imgspot_imgspot_img
HomeAatishi: केजरीवाल सरकार की आंगनवाड़ियों में बचपन को मिल रहा बेहतर अर्ली...

Aatishi: केजरीवाल सरकार की आंगनवाड़ियों में बचपन को मिल रहा बेहतर अर्ली चाइल्डहुड एजुकेशन और पोषण।

Aatishi: Kejriwal visited the Anganwadi center of the government.

Aatishi: महिला एवं बाल-विकास मंत्री आतिशी ने मंगलवार सुबह लक्ष्मी नगर स्थित केजरीवाल सरकार के आंगनवाड़ी सेंटर का दौरा किया। विजिट के दौरान डब्ल्यूसीडी मंत्री ने केंद्र में बच्चों और आंगनवाड़ी वर्कर्स से बातचीत की, एक्टिविटीज़ में भाग लिया तथा वहाँ मौजूदा सुविधाओं की पड़ताल की। मंत्री आतिशी ने यहाँ बच्चों को मिल रहे भोजन की स्वयं खाकर जाँच भी की और अधिकारियों को बच्चों के पसंद के अनुसार न्यूट्रिशियश मेन्यू तैयार करने के निर्देश दिये। साथ ही उन्होंने अधिकारियों को केजरीवाल सरकार द्वारा हाल में ही लॉंच किए गये खेल पिटारा किट का बच्चों की लर्निंग पर क्या प्रभाव रहा है उसका इंपैक्ट स्टडी करने का भी निर्देश दिया।

मंत्री आतिशी ने कहा कि, अपने स्कूलों को शानदार बनाने के बाद अब केजरीवाल सरकार अर्ली चाइल्डहुड एजुकेशन को वर्ल्ड-क्लास बनाने की दिशा में काम कर रही है। हम अपनी आंगनवाड़ियों को उस हर ज़रूरी सुविधा से लैस कर रहे है जो बच्चों के सर्वांगीण विकास में सहायक बने। साथ ही इस दिशा में सरकार आंगनवाड़ी वर्कर्स के लिए ख़ास ट्रेनिंग भी डिज़ाइन कर रही है।

Screenshot 2023 08 08 at 6.22.40 PM
Aatishi: केजरीवाल सरकार की आंगनवाड़ियों में बचपन को मिल रहा बेहतर अर्ली चाइल्डहुड एजुकेशन और पोषण। 2

Aatishi: उन्होंने कहा कि, 1-6 साल की उम्र में जब बच्चे आंगनवाड़ी में आते हैं तो वे कितने जिज्ञासु होते हैं। वे अपने आस-पास की हर चीज के बारे में जानने के लिए उत्सुक होते हैं। रिसर्च भी बताते है कि एक बच्चे के मस्तिष्क का सबसे ज़्यादा विकास 0-6 साल की उम्र के दौरान होता है। ऐसे में हमारी आंगनवाड़ी वर्कर्स ये सुनिश्चित कर रही है कि यहाँ आने वाले हर बच्चे को बेहतर शिक्षा और पोषण मिले ताकि वो सीखने के क्रम में पीछे न छूटे।

विजिट के दौरान डब्ल्यूसीडी मंत्री ने पाया कि सेंटर पर साफ़-सफ़ाई का पूरा ध्यान रखा गया है। आंगनवाड़ी के हर हिस्से को इस प्रकार व्यवस्थित किया गया है ताकि वो बच्चों की लर्निंग का हिस्सा बने। साथ ही बच्चे की लर्निंग के लिए खेल पिटारा किट का भी अच्छे से इस्तेमाल किया जा रहा है। लंच के दौरान बच्चों में हाथ धोने की अच्छी आदत विकसित की गई है। ये सब देखते हुए डब्ल्यूसीडी मंत्री ने आंगनवाड़ी वर्कर्स की सराहना की।

Aatishi: साथ ही उन्होंने अधिकारियों को आंगनवाड़ी की दीवारों को और कलरफ़ुल बनाने और उसपर बच्चों के अनुकूल पेंटिंग बनाने के निर्देश दिये। और इस पूरी प्रक्रिया में कम्यूनिटी और स्कूली बच्चों को शामिल करने की बात कही।

बातचीत के दौरान आंगनवाड़ी वर्कर्स ने कहा कि सरकार द्वारा आंगनवाड़ी का रंग-रूप बदला गया है और यहाँ सभी ज़रूरी सुविधाएँ सुनिश्चित की जा रही है। ऐसे में आंगनवाड़ी के बदले स्वरूप से आसपास के लोग काफ़ी खुश है और अपने बच्चों को इस आंगनवाड़ी में भेजने के लिए काफ़ी उत्सुक है।

Aatishi: एक आंगनवाड़ी वर्कर ने कहा कि,आसपास के इलाक़े के कई पेरेंट्स जब आंगनवाड़ी देखने आये तो काफ़ी खुश हुए और उनमे से कुछ पेरेंट्स तो अपने बच्चों को निजी प्ले वे स्कूलों से दिल्ली सरकार की आंगनवाड़ी में दाख़िला दिला रहे है क्योंकि यहां उन्हें सरकार द्वारा मुफ्त में बेहतर सुविधाएं प्रदान की जा रही हैं

आंगनवाड़ी वर्कर्स को प्रोत्साहित करते हुए डब्ल्यूसीडी मंत्री आतिशी ने कहा कि, हमारी आंगनवाड़ियों में समझ के सबसे ज़रूरतमंद तबके से बच्चे आते है और अधिकांश बच्चे फ़र्स्ट जनरेशन लर्नर होते है। ऐसे में ये आंगनवाड़ी वर्कर्स की ज़िम्मेदारी है कि इन बच्चों को यहाँ सीखने का सकारात्मक माहौल मिले और वो बिना किसी डर-भय के ख़ुशी के साथ सीखते हुए यहाँ अपनी बुनियादी समझ को मज़बूत कर सके। उन्होंने कहा कि ये बच्चे देश का भविष्य है और इन्हें आकार देने का काम आंगनवाड़ी वर्कर्स का है।

यह भी पढ़ें:Aarvind Kejriwal: भारतीय लोकतंत्र के लिए काला दिन, राज्यसभा से पारित बिल दिल्ली के लोगों को गुलाम बनाने वाला है।