Friday, May 24, 2024
31.8 C
New Delhi

Rozgar.com

31.1 C
New Delhi
Friday, May 24, 2024

Advertisementspot_imgspot_imgspot_imgspot_img
HomeStatesBihar-Jharkhandशादी के मंडप से निकलकर एक नवविवाहिता सीधे मतदान केंद्र पर...

शादी के मंडप से निकलकर एक नवविवाहिता सीधे मतदान केंद्र पर पहुँची, किया मतदान

बिहार
लोकसभा चुनाव 20224 के पहले चरण में गया, नवादा, जमुई और औरंगाबाद में शुक्रवार को मतदान जारी है। लोग अपने मताधिकार का प्रयोग कर रहे हैं।  इस बीच नवादा से मजबूत लोकतंत्र की एक दमदार और खूबसूरत तस्वीर सामने आई है। शेखपुरा विधानसभा  क्षेत्र के बूथ संख्या 68 पर एक नवविवाहिता शादी के मंडप से उठकर सीधे वोट डालने पहुंच गई। उसके पति ने भी उसका साथ दिया।

बिहार के नवादा में भारतवर्ष के लोकतंत्र की खूबसूरती में उस समय चार चांद लग गया जब शादी के मंडप से निकलकर एक  नवविवाहिता सीधे मतदान केंद्र पर पहुँच गई। मेंहदी वाले हाथो में सुहाग का सिंघोरा लिए और पति से साथ परिणय गांठ बांधे बिहार की बेटी सुष्मिता जब मतदान केंद्र पर पहुंची तो वहां मौजूद मतदाता और मतदान कर्मी उर्जा से भर गए। मौजूद सभी लोगों ने ताली बजाकर लोकतंत्र की प्रहरी इस बेटी का शानदार स्वागत किया। पति के साथ पहुंची सुष्मिता ने न सिर्फ अपने मताधिकार का प्रयोग किया बल्कि लोगों को देश के प्रति जिम्मेदारी का पाठ भी पढ़ाया।

सुष्मिता ने बताया कि वह पहली बार वोट दे रही है। इससे पहले उसकी शादी तय हो गई। लेकिन उसने ठान लिया कि हर हाल में अपने मताधिकार का प्रयोग करेगी। उसने बताया कि अपनी पसंद की सरकार बनाने और राष्ट्र निर्माण के लिए यह मौका पांच साल में एक बार आता है।  कहा कि जब मैं वोट डाल सकती हूं तो वे सभी लोग जिनका नाम वोटर लिस्ट में दर्ज है, उन्हें अपने मताधिकार का प्रयोग करना चाहिए। सुष्मिता के पति प्रदीप ने भी कहा कि उसे अपनी पत्नी के फैसले पर उसे नाज है। इसके लिए विदाई की रस्म को रोक दिया गया।

यह नजारा शेखपुरा विधान सभा के शहर चकदिवान के वसंती कन्या मिडिल स्कूल के बूथ संख्या 68 पर देखने को मिला जहां नवविवाहिता सुष्मिता अपने पति प्रदीप के साथ विवाह के पोशाक में ही वोट देने पहुंच गई। विवाहिता ने कहा कि वोट देने के बाद ही ससुराल के लिए रवाना होगी। सुष्मिता की शादी एक निजी मैरेज हाल में करीब दिन 8.30 बजे संम्पन्न हुआ और 8.32 बजे बूथ पर पहुंच गई। मंडप से बूथ तक जाने की साक्षी बाराती के साथ मुहल्ले के लोग बने और इस कार्य के लिए दूल्हा दुल्हन की लोगों ने जमकर सराहना की।