Saturday, June 15, 2024
34.1 C
New Delhi

Rozgar.com

34.1 C
New Delhi
Saturday, June 15, 2024

Advertisementspot_imgspot_imgspot_imgspot_img

कर्नाटक हाईकोर्ट ने यौन उत्पीड़न मामले में राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री की गिरफ्तारी पर रोक लगा दी

बेंगलूरू कर्नाटक हाईकोर्ट ने यौन उत्पीड़न मामले में राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा की गिरफ्तारी पर रोक लगा दी है। कोर्ट ने उनको राहत...
HomeWorld Newsगोवा में धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने के बढ़ते मामलों के बीच,...

गोवा में धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने के बढ़ते मामलों के बीच, डीजीपी ने आगाह किया, अपमानजनक सामग्री पोस्ट करने से बचें

पणजी
तटीय राज्य गोवा में धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने के बढ़ते मामलों के बीच पुलिस महानिदेशक जसपाल सिंह ने मंगलवार को लोगों से अपमानजनक सामग्री पोस्ट करने से परहेज करने का आग्रह किया। जसपाल सिंह ने 'एक्स' पर कहा, "सोशल मीडिया सूचना, ज्ञान और बातचीत के लिए सभ्य दुनिया का एक डिजिटल आविष्कार है। कृपया व्यक्तियों, समूहों, संप्रदायों, पंथों और धर्मों के बारे में अपमानजनक पोस्ट करके इसे 'असामाजिक' न बनाएं। एक-दूसरे का सम्मान करना सीखें। कृपया कोई असामंजस्य न रखें।''

राज्‍य में पिछले चार महीनों में धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने की कई घटनाएं हो चुकी हैं। हाल ही में दो अलग-अलग घटनाओं में हिंदू धर्म के लोगों ने उनकी भावनाओं को ठेस पहुंचाने वालों के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर आंदोलन किया था।
मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने पिछले हफ्ते कहा था कि किसी भी धर्म के खिलाफ गैर-जिम्मेदाराना बयान, जो तनाव पैदा करता है, बर्दाश्त नहीं किया जाएगा और कानून के मुताबिक कार्रवाई की जाएगी।

यह टिप्पणी तटीय राज्य के दो मंदिरों में भक्तों द्वारा सामाजिक कार्यकर्ता श्रेया धारगलकर के खिलाफ कथित तौर पर देवी-देवताओं के खिलाफ अपमानजनक बयान देने की शिकायत के बाद की गई थी। घटनाओं का जिक्र करते हुए मुख्यमंत्री सावंत ने कहा कि पुलिस को निर्देश देने के बाद दोनों मामलों में मामला दर्ज किया गया और आरोपियों को 4 जून तक के लिए न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है।

उन्‍होंने कहा, "मैं ऐसे व्यक्तियों के कृत्यों की निंदा करता हूं, जो देवताओं के खिलाफ गैरजिम्मेदाराना बयान देते हैं… श्रेया धारगलकर पर दो पुलिस स्टेशनों में मामला दर्ज किया गया है और 4 जून तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है। इससे एक अच्छा संदेश गया है कि अगर कोई सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म का दुरुपयोग कर अनावश्यक रूप से तनाव पैदा करने की कोशिश करता है, तो कार्रवाई शुरू की जानी चाहिए।" मुख्यमंत्री सावंत ने कहा, "हम गैर-जिम्मेदाराना आलोचना के ऐसे कृत्यों के खिलाफ कानून के अनुसार कार्रवाई करेंगे। किसी भी धर्म के खिलाफ बयान बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।"