20.1 C
New Delhi
Wednesday, February 21, 2024

Advertisementspot_imgspot_imgspot_imgspot_img
HomeAnand Mahindra: चंद्र मिशन पर BBC एंकर ने उठाए थे सवाल, आनंद...

Anand Mahindra: चंद्र मिशन पर BBC एंकर ने उठाए थे सवाल, आनंद महिंद्रा ने अंग्रेजों को दिया मुंहतोड़ जवाब।

Anand Mahindra gave a befitting reply to the British.

Anand Mahindra: देश के दिग्गज कारोबारी आनंद महिंद्रा (Anand Mahindra) सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ट्विटर (Twitter) पर काफी सक्रिय रहते हैं. वह लोगों से जुड़ने के लिए तरह-तरह की पोस्‍ट भी शेयर करते हैं. अपने मजेदार पोस्ट की वजह से उनकी काफी अच्छी फैन फॉलोइंग है. वह सोशल मीडिया अपनी बात रखने के साथ समसामयिक मामलों पर टिप्पणी करते रहते हैं. उन्होंने एक बार फिर भारत के स्पेस प्रोग्राम का मजाक उड़ा रहे बीबीसी एंकर को मुंहतोड़ जवाब देकर आम लोगों का दिल जीत लिया है।

Anand Mahindra: दरअसल, बीबीसी का 4 साल पुराना एक वीडियो क्लिप भी सोशल मीडिया पर वायरल होने लगा.  यह चंद्रयान-2 के समय का है जिसे भारत ने 2019 में छोड़ा था. इसमें स्टूडियो में बैठा बीबीसी का एंकर भारत के मून मिशन का मजाक उड़ा रहा है. इस क्लिप को आनंद महिंद्रा ने अपने X अकाउंट पर शेयर किया है और कड़ा जवाब दिया है.

भारत की गरीबी के लिए काफी हद तक अंग्रेजी हुकूमत जिम्मेदार
Anand Mahindra: महिंद्रा ने वीडियो पर जवाब देते हुए लिखा, ”सही में. सच्चाई यह है कि हमारी गरीबी की सबसे बड़ी वजह यह है कि हम पर दशकों तक अंग्रेजों ने हुकूमत की. उन्होंने पूरे उपमहाद्वीप को सिस्टमैटिक तरीके से लूटा. अंग्रेजों ने हमसे जो सबसे मूल्यवान चीज छीनी थी, वह कोहिनूर हीरा नहीं था, बल्कि हमारा गौरव और अपनी क्षमताओं में विश्वास था. अंग्रेजी हुकूमत का सबसे कपटी लक्ष्य अपने गुलामों को उनके कमतर होने का अहसास कराना था. यही कारण है कि टॉयलेट और स्पेस एक्सप्लोरेशन दोनों में निवेश करना एक विरोधाभास नहीं है. सर, चंद्र मिशन से हमें अपना गौरव और आत्मविश्वास बहाल करने में मदद मिलती है. यह विज्ञान के माध्यम से प्रगति में विश्वास पैदा करता है. यह हमें गरीबी से बाहर निकलने की आकांक्षा देता है. सबसे बड़ी गरीबी आकांक्षा की कमी होती है.”

वायरल वीडियो में BBC एंकर ने क्या कहा
Anand Mahindra: दरअसल, वायरल वीडियो में बीबीसी एंकर भारत में मौजूद अपने रिपोर्टर से पूछ रहा है कि भारत में इन्फ्रास्ट्रक्चर की भारी कमी है, भीषण गरीबी है, 70 करोड़ लोगों पास टॉयलेट नहीं है, क्या ऐसे देश को मून मिशन पर इतना पैसा खर्च करना चाहिए।

यह भी पढ़े- जहां चंद्रयान-3 उतरा उस जगह का नाम ‘शिवशक्ति’, 23 अगस्त को नेशनल स्पेस डे- PM मोदी का ऐलान।