Tuesday, March 5, 2024
17.9 C
New Delhi

Rozgar.com

19 C
New Delhi
Tuesday, March 5, 2024

Advertisementspot_imgspot_imgspot_imgspot_img
HomeArvind Kejriwal On Manipur: मणिपुर जल रहा है, वहां दो समुदाय एक-दूसरे...

Arvind Kejriwal On Manipur: मणिपुर जल रहा है, वहां दो समुदाय एक-दूसरे से लड़ रहे हैं- अरविंद केजरीवाल।

Arvind Kejriwal On Manipur: Special discussion on Manipur violence on Thursday in special session of Delhi Assembly.

Arvind Kejriwal On Manipur: दिल्ली विधानसभा के विशेष सत्र में गुरुवार को मणिपुर हिंसा पर विशेष चर्चा हुई। इस दौरान सीएम अरविंद केजरीवाल ने सदन को संबोधित करते हुए कहा कि मणिपुर में घटित घटनाएं बहुत दर्दनाक हैं। साथ ही, इससे ज्यादा दर्दनाक भाजपा के विधायकों द्वारा सदन से बाहर जाकर न्यूज चैनलों को बयान बाइट देना है, जिसमें वो कह रहे हैं कि मणिपुर से हम लोगों का कोई लेना-देना नहीं है, मणिपुर उनके लिए कोई विषय नहीं है। जब मणिपुर के लोग ये देख रहे होंगे कि भाजपा के दिल्ली के विधायक ये कह रहे हैं कि मणिपुर से उनका कोई लेना-देना नहीं है तो उनके दिल पर क्या गुजर रही होगी? ऐसा केवल भाजपा के कुछ विधायक ही नहीं कह रहे हैं, बल्कि उपर से नीचे तक पूरी की पूरी सरकारें और भाजपा के सबसे बड़े नेता प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संदेश है कि मणिपुर से उनका कोई लेना-देना नहीं है। जबसे मणिपुर में घटना घटी, तभी से प्रधानमंत्री चुप हैं। मणिपुर में 3 मई से 31 जुलाई के बीच 6500 एफआईआर हो चुकी हैं, 4 हजार लोगों के घर जला दिए गए, 60 हजार लोग बेघर हो गए, 150 से ज्यादा लोगो की मौत हो गई, 350 धार्मिक स्थल जला दिए गए, लेकिन प्रधानमंत्री चुप रहे। केंद्रीय फोर्सेज, आसाम रायफल और मणिपुर पुलिस के बीच खुलेआम झगड़ा और गोलाबारी हो गई। ऐसा आज तक कभी नहीं हुआ। पूरी दुनिया में भारत की थू-थू हो रही है, यूरोपियन पार्टियामेंट और अमेरिका में मणिपुर की चर्चा हुई, लेकिन भारत के प्रधानमंत्री चुप रहे। एक दिन जब मणिपुर का एक वीडियो वायरल हुआ, जिसमें देखा गया कि हमारी दो बहनों को निर्वस्त्र कर सड़क पर घुमाया गया और सारेआम कई लोगों ने मिलकर उनके साथ गलत काम किया, तब भी प्रधानमंत्री चुप रहे।

Screenshot 2023 08 18 at 1.02.09 PM
Arvind Kejriwal On Manipur: मणिपुर जल रहा है, वहां दो समुदाय एक-दूसरे से लड़ रहे हैं- अरविंद केजरीवाल। 2

मणिपुर को लेकर पूरी दुनिया में भारत की थू-थू हो रही है, लेकिन हमारे प्रधानमंत्री चुप हैं- अरविंद केजरीवाल

Arvind Kejriwal On Manipur: दिल्ली विधानसभा के विशेष सत्र में गुरुवार को मणिपुर हिंसा पर विशेष चर्चा हुई। इस दौरान सीएम अरविंद केजरीवाल ने सदन को संबोधित करते हुए कहा कि मणिपुर में घटित घटनाएं बहुत दर्दनाक हैं। साथ ही, इससे ज्यादा दर्दनाक भाजपा के विधायकों द्वारा सदन से बाहर जाकर न्यूज चैनलों को बयान बाइट देना है, जिसमें वो कह रहे हैं कि मणिपुर से हम लोगों का कोई लेना-देना नहीं है, मणिपुर उनके लिए कोई विषय नहीं है। जब मणिपुर के लोग ये देख रहे होंगे कि भाजपा के दिल्ली के विधायक ये कह रहे हैं कि मणिपुर से उनका कोई लेना-देना नहीं है तो उनके दिल पर क्या गुजर रही होगी? ऐसा केवल भाजपा के कुछ विधायक ही नहीं कह रहे हैं, बल्कि उपर से नीचे तक पूरी की पूरी सरकारें और भाजपा के सबसे बड़े नेता प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संदेश है कि मणिपुर से उनका कोई लेना-देना नहीं है। जबसे मणिपुर में घटना घटी, तभी से प्रधानमंत्री चुप हैं। मणिपुर में 3 मई से 31 जुलाई के बीच 6500 एफआईआर हो चुकी हैं, 4 हजार लोगों के घर जला दिए गए, 60 हजार लोग बेघर हो गए, 150 से ज्यादा लोगो की मौत हो गई, 350 धार्मिक स्थल जला दिए गए, लेकिन प्रधानमंत्री चुप रहे। केंद्रीय फोर्सेज, आसाम रायफल और मणिपुर पुलिस के बीच खुलेआम झगड़ा और गोलाबारी हो गई। ऐसा आज तक कभी नहीं हुआ। पूरी दुनिया में भारत की थू-थू हो रही है, यूरोपियन पार्टियामेंट और अमेरिका में मणिपुर की चर्चा हुई, लेकिन भारत के प्रधानमंत्री चुप रहे। एक दिन जब मणिपुर का एक वीडियो वायरल हुआ, जिसमें देखा गया कि हमारी दो बहनों को निर्वस्त्र कर सड़क पर घुमाया गया और सारेआम कई लोगों ने मिलकर उनके साथ गलत काम किया, तब भी प्रधानमंत्री चुप रहे।

जब सारे सिस्टम फेल हो जाते हैं, तब लोग उम्मीद करते हैं कि उनका प्रधानमंत्री उनको बचाएगा- अरविंद केजरीवाल

Arvind Kejriwal On Manipur: सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि देश का प्रधानमंत्री सबके लिए पिता के समान होता है। मणिपुर के सीएम बीरेन सिंह का कहना है कि यह अकेला मामला नहीं है, यहां तो ऐसा रोज हो रहा है। लोग प्रधानमंत्री को रोज याद नहीं करते हैं। लोग प्रधानमंत्री को तब याद करते हैं, जब सारे सिस्टम फेल हो जाते हैं। तब लोग उम्मीद करते हैं कि उनका प्रधानमंत्री उनको बचाएगा। जिन महिलाओं को खुलेआम निर्वस्त्र कर सडक पर घुमाया गया और गलत काम किया गया, उनके लिए सबकुछ फेल हो गया था। वो तो हमारे देश की बेटियां हैं और पद व उम्र के हिसाब से प्रधानमंत्री तो पिता समान हैं। अगर बेटियों की सरेआम इज्जत लुट रही हो और पिता कहे कि मेरा इससे कोई लेना-देना नहीं तो बेटियां कहां जाएंगी? मणिपुर के एक रिटायर्ड आर्मी आफिसर की एक वीडिया देखा। वो कभी प्रधानमंत्री का बहुत बड़ा भक्त होता था। पिछले कई सालों में उसने मोदी जी की अंधभक्ति में कई ट्वीट किए हैं। वो रिटायर्ड अर्मी आफिसर वीडियो में रोते हुए कह रहा है कि प्रधानमंत्री जी मैंने नहीं सोचा था कि आप इस तरह से घोखा देंगे। आप हमारी पीठे में छुरा घोपेंगे और हमें हमारे हाल पर छोड़ देंगे।

पूरा देश स्तब्ध है, प्रधानमंत्री मणिपुर पर न कुछ कर रहे हैं और न कुछ बोल रहे हैं- अरविंद केजरीवाल

Arvind Kejriwal On Manipur: सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि सारे भाजपा वाले कह रहे हैं कि मोदी जी पहले प्रधानमंत्री हैं, जो पिछले 9 सालों में 50 बार नार्थ ईस्ट गए। हमारा कोई रिश्तेदार हमारे खुशी के मौके पर रोज जाए और मुसीबत पर मुंह मोड़ ले। तो असली दोस्त वही होता है, जो मुसीबत में काम आए। जब मणिपुर जल रहा था, लोग मर रहे थे, लोगों के घर जलाए जा रहे थे, तब प्रधानमंत्री अपने कमरे अंदर कुंडी मारकर बैठ गए। पूरा देश स्तब्ध है और पूछ रहा है कि प्रधानमंत्री की चुप्पी का कारण क्या है? प्रधानमंत्री मणिपुर को लेकर न कुछ कर रहे हैं और न कुछ बोल रहे हैं। ऐसा पहली बार नहीं है, पिछले 9 सालों में जब भी देश के उपर आपदा आई, प्रधानमंत्री चुप हो गए, अपने कमरे में कुंडी मारकर बैठ गए और मैदान छोड़कर भाग गए। लोग चिल्लाते रहे, लेकिन प्रधानमंत्री कहीं दिखाई नहीं दिए।

जब महिला पहलवानों ने कुश्ती फेडरेशन के अध्यक्ष पर गलत हरकत करने का आरोप लगाया, तब भी पीएम चुप रहे- अरविंद केजरीवाल

Arvind Kejriwal On Manipur: सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि थोड़े दिन पहले हमारी महिला पहलवान जंतर-मंतर पर बैठी थीं। उनके आरोप थे कि उनके साथ कुश्ती फेरडेरेशन के अध्यक्ष बृजभूषण सिंह ने गलत हरकतें की हैं। यही महिला पहलवान जब मेडल जीत कर आई थीं, तब प्रधानमंत्री ने सबसे पहले फोटो खिंचवाने पहुंच गए थे। मैंने वो वीडियो भी देखा है, जिसमें पीएम महिला पहलवानों से कह रहे हैं कि तुम मेरी बेटियों के समान हो, कल कोई दिक्कत हो तो मेरे पास आ जाना। जब महिला पहलवानों ने कहा कि पिताजी (प्रधानमंत्री) हमारे साथ बदसलूकी हो गई तो प्रधानमंत्री चुप्पी साध ली। प्रधानमंत्री अगर इतना ही कह देते कि बेटा चिंता मत करो, मैं हूं, जांच कराउंगा, दोषियों को सजा दिलवाउंगा तो लोगों को संतुष्टि मिल जाती। प्रधानमंत्री कम से कम मणिपुर में शांति की अपील ही कर देते लेकिन वो शांति की अपील तक नहीं करते हैं। महिला पहलवान तो प्रधानमंत्री के दो शब्द सुनने को बेताब थीं। लेकिन महिला पहलवानों को एक एफआईआर दर्ज करवाने के लिए सुप्रीम कोर्ट तक जाना पड़ा।

दिल्ली के डेढ़ गुना इलाका चीन की सेना ने कब्जा कर लिया और प्रधानमंत्री चुप रहे- अरविंद केजरीवाल

Arvind Kejriwal On Manipur: सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि पिछले 9 साल से चीन हमें आंख दिखा रहा है, लेकिन प्रधानमंत्री चुप हैं और उनके मुंह से चीन का शब्द तक नहीं निकलता है। अक्टूबर 2019 में चीन के राष्ट्रपति भारत आए। महाबलेश्वर में हमारे प्रधानमंत्री और चीन के राष्ट्रपति हाथ में हाथ मिलाकर महाबलिपुरम के मंदिर में घूम रहे थे और उसके फोटो लिए गए। इसके बाद 15 जून 2020 को चीन की फौज ने गलवान घाटी में हमला कर हमारे 20 सैनिकों को मौत के घाट उतार दिया और 2 हजार वर्ग किमी जमीन पर कब्जा कर लिया। मतलब दिल्ली के डेढ़ गुना इलाका चीन की सेना ने कब्जा कर लिया, लेकिन प्रधानमंत्री चुप रहे। अफवाहें है कि चीन ने जो भारत के दो हजार वर्ग किलोमीटर जमीन पर कब्जा किया है, उसको लेकर गुपचुप कोई डीलिंग हुई है और शायद इन्होंने चीन को वो इलाका दे दिया है। बीते फरवरी के महीने में भारत के विदेश मंत्री एस. जयशंकर का सबसे शर्मनाक बयान आया। विदेश मंत्री ने कहा कि चीन की भारत से बड़ी अर्थव्यवस्था है। मैं क्या करूं? हमारे देश का विदेश मंत्री कहता है कि मैं क्या करूं। इसके विरोध में बहुत सारे अर्मी के रिटार्यर्ड अफसरों ने लिखा।

जवाहर लाल नेहरू ने चीन की आंखों में आंखें डालकर युद्ध किया था, लेकिन इन्होंने तो चीन के सामने देश को सरेंडर कर दिया- अरविंद केजरीवाल

Arvind Kejriwal On Manipur: सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि ये लोग पानी पी-पीकर पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय पंडित जवाहर लाल नेहरू को गालियां देते हैं। पंडित जवाहर लाल नेहरू ने कम से कम चीन की आंखों में आंखें डालकर उनके साथ युद्ध तो किया था। इन्होंने तो चीन के सामने देश को सरेंडर कर दिया। चीन ने हमारे उपर हमला किया और हमारे दो हजार वर्ग किमी जमीन पर कब्जा कर लिया, बदले में इन्होंने चीन को इनाम दिया। 2018-19 में भारत का चीन के साथ व्यापार 87 बिलियन डालर था, इन्होंने उसे डेढ़ गुना बढ़ाकर 2022-23 में 114 बिलियन डालर कर दिया। देश के लोगों से पूछना चाहता हूं कि आपको बिजनेस करने वाला प्रधानमंत्री चाहिए या देश की रक्षा-सम्मान करने वाला प्रधानमंत्री चाहिए। हम चीन से इतना माल आयात करते हैं, हम ये माल आयात करना बंद कर देते। मैं प्रधानमंत्री से कहना चाहता हूं कि आंख दिखाने की हिम्मत तो दिखाओ। हाथ में हाथ डालकर घूमने से इश्क होता है, कूटनीति नहीं होती है। कूटनीति करने के लिए आंखें दिखानी पड़ती है।

यह भी पढ़ें :https://www.khabronkaadda.com/teaching-learning-app-was-organized-in-delhi/