Tuesday, May 21, 2024
33.1 C
New Delhi

Rozgar.com

32.9 C
New Delhi
Tuesday, May 21, 2024

Advertisementspot_imgspot_imgspot_imgspot_img
HomeStatesChhattisgarhBalrampur Ramanujganj: गीता के लिए वरदान साबित हुआ आयुष्मान कार्ड, पथरी से...

Balrampur Ramanujganj: गीता के लिए वरदान साबित हुआ आयुष्मान कार्ड, पथरी से मिली निजात, मिला नया जीवन

बलरामपुर.

आयुष्मान कार्ड से अब आमजनों को गंभीर बीमारियों का इलाज करवाने में बड़ी सहायता मिल रही है। बलरामपुर जिले के निवासियों को भी आयुष्मान कार्ड का लाभ मिल रहा है। आर्थिक रूप से कमजोर व्यक्ति जो गंभीर बीमारियों का इलाज करवाने में असक्षम होता है उसके लिए आयुष्मान कार्ड वरदान साबित हो रही है। इस योजना का लाभ लेते हुए विकासखण्ड रामचन्द्रपुर अंतर्गत ग्राम धरमी निवासी 32 वर्षीय श्रीमती गीता यादव ने  पथरी का सफल ऑपरेशन कराया। ऑपरेशन के बाद उन्हें पीड़ा से निजात मिल गई है। जिला अस्पताल के सिविल सर्जन डॉ. रामेश्वर शर्मा ने बताया कि चार मार्च को गीता यादव को प्रारंभिक जांच कर अस्पताल में भर्ती कराया गया।

जांच में पाया गया की उनकी पित्त की थैली में पथरी है और इसके उपचार के लिए ऑपरेशन करना जरूरी है। पांच मार्च को सिविल सर्जन, अन्य सर्जन और विशेषज्ञों की टीम ने गीता यादव का ऑपरेशन किया। अब वे पहले से बेहतर है। उनके पति दयाशंकर यादव ने बताया कि उनकी पत्नी लम्बे समय से पेट दर्द की समस्या से पीड़ित थी। पिछले चार साल से पित्त की थैली में पथरी था तथा जड़ी बूटी व आयुर्वेदिक दवाई से आराम न मिलने पर उन्होंने अपनी पत्नी को जिला अस्पताल बलरामपुर में उपचार करवाने ले गया। उनके पति कहते हैं कि मैं खेती बाड़ी कर अपना घर चलाता हूं। निजी अस्पताल में इलाज करवाने पर बहुत खर्च बता रहे थे। आर्थिक स्थिति ठीक नहीं होने के कारण उक्त राशि वहन करने की स्थिति में नहीं था तब चिकित्सकों द्वारा आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना अंतर्गत निःशुल्क सफल ऑपरेशन के बारे में बताया गया। और आयुष्मान कार्ड से बिना पैसे के मेरी पत्नी का सफल ऑपरेशन किया गया। उन्होंने ऐसी जन कल्याणकारी योजना के लिए प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी और मुख्यमंत्री विष्णुदेव साय को धन्यवाद दिया।

नागरिकों को पांच लाख रूपये तक मुफ्त इलाज की सुविधा
आयुष्मान कार्ड के तहत आर्थिक रूप से कमजोर नागरिकों को पांच लाख रूपये तक मुफ्त इलाज की सुविधा प्रदान की जाती है। प्रत्येक पात्र परिवार को प्रतिवर्ष पांच लाख रूपये तक के निःशुल्क उपचार की सुविधा ले सकते हैं। वे योजना से संबद्ध देशभर के किसी भी चिन्हित सरकारी या निजी अस्पताल में मुफ्त इलाज की सुविधा का लाभ उठा सकेंगे। योजना के तहत अस्पताल में भर्ती होने की स्थिति में गंभीर बीमारियों का निःशुल्क उपचार इस योजना के तहत किया जायेगा।