Tuesday, March 5, 2024
17.9 C
New Delhi

Rozgar.com

19 C
New Delhi
Tuesday, March 5, 2024

Advertisementspot_imgspot_imgspot_imgspot_img
HomeAsian Games: एशियन गेम्स में मेडल जीतने वाले दिल्ली के खिलाड़ी पवन...

Asian Games: एशियन गेम्स में मेडल जीतने वाले दिल्ली के खिलाड़ी पवन सहरावत और अभिषेक वर्मा से मिले सीएम केजरीवाल।

CM Kejriwal met Delhi players Pawan Sehrawat and Abhishek Verma who won medals in Asian Games.

  • एशियन गेम्स में कबड्डी स्पर्धा में भारत के लिए गोल्ड मेडल लाने वाले पवन सहरावत भारतीय कबड्डी टीम के कप्तान भी हैं- अरविंद केजरीवाल
  • एशियन गेम्स में तीरंदाज़ी में सिल्वर व गोल्ड मेडल लाने वाले अभिषेक वर्मा अब तक भारत को पांच मेडल दिलाए हैं- अरविंद केजरीवाल
  • मिशन एक्सिलेंस स्कीम का हमारे खिलाड़ियों को बहुत फायदा हो रहा है और नतीजे शानदार आ रहे हैं- अरविंद केजरीवाल
  • हमारी सरकार खिलाड़ियों की प्रतिभा निखारने के लिए मिशन एक्सीलेंस और प्ले एंड प्रोग्रस स्कीम के तहत कैश अवार्ड देती है- अरविंद केजरीवाल
  • मैंने सोचा नहीं था कि एक गरीब घर का बच्चा अंतर्राष्ट्रीय स्पर्धा में मेडल लेकर आएगा, केजरीवाल सरकार की मदद से ये संभव हो पाया है- पवन सहरावत
  • जैसे केजरीवाल सरकार वित्तीय मदद देकर खिलाड़ियों को बढ़ावा देती है, वैसे कोई राज्य सरकार नहीं करती है- पवन सहरावत
  • सीएम केजरीवाल को थैंक्स, अगर दिल्ली सरकार से मदद नहीं मिलती तो मैं इस मुकाम पर नहीं होता- अभिषेक वर्मा
  • दिल्ली सरकार से मिले कैश इंसेंटिव ने मेरी जिंदगी बदल दी और मैं यह मुकाम हासिल कर पाया- अभिषेक वर्मा

सीएम अरविंद केजरीवाल ने एशियन गेम्स में भारत के लिए मेडल लाने वाले दिल्ली के खिलाड़ी पवन सहरावत और अभिषेक वर्मा से बुधवार को अपने आवास पर मुलाकात की। पवन सहरावत ने कबड्डी स्पर्धा में गोल्ड मेडल जीता है और वे भारतीय कबड्डी टीम के कप्तान भी हैं, जबकि अभिषेक वर्मा ने तीरंदाजी में गोल्ड व सिल्वर मेडल जीता है। इस शानदार उपलब्धि के लिए सीएम केजरीवाल ने उन्हें बधाई दी और मेडल पहनाकर सम्मानित भी किया। सीएम ने खिलाड़ियों को शाबाशी देते हुए कहा कि ऐसे ही दिल्ली और देश का नाम रौशन करते रहो। उन्होने कहा कि ये खिलाड़ी दिल्ली सरकार के मिशन एक्सिलेंस स्कीम का हिस्सा हैं। इस स्कीम का हमारे खिलाड़ियों को बहुत फायदा हो रहा है और नतीजे भी शानदार आ रहे हैं। वहीं, पवन सहरावत और अभिषेक वर्मा ने दिल्ली सरकार से मिली वित्तीय मदद के लिए मुख्यमंत्री का आभार जताया और कहा कि सरकार से मिली मदद से ही ये उपलब्धि हासिल कर पाए हैं।

आम आदमी पार्टी के तिमारपुर से विधायक दिलीप पांडे सीएम अरविंद केजरीवाल से मुलाकात कराने के लिए पवन सहरावत और अभिषेक वर्मा को लेकर आए थे। इस दौरान दोनों खिलाड़ियों के परिवार के लोग भी साथ थे। सीएम ने दोनों ही खिलाड़ियों से स्पोर्ट्स को लेकर काफी बातें कीं और उनके भविष्य की योजनाओं के बारे में भी जाना। भारतीय कबड्डी टीम के कप्तान पवन सहरावत ने सीएम से कहा कि मैं आपका आशीर्वाद लेना चाहता था। आपसे मिलकर बहुत खुशी हुई। पवन ने कहा कि मैं आपका आभारी हूं। क्योंकि मिशन एक्सिलेंस के तहत मुझे भी दिल्ली सरकार से आर्थिक मदद मिली थी, जिससे मुझे अच्छी प्रैक्टिस करने में मदद मिली। जिस तरह से दिल्ली सरकार अपने खिलाड़ियों को आर्थिक मदद कर उन्हें बढ़ावा देती है, उस तरह कोई भी राज्य सरकार नहीं करती है। मैंने कभी सोचा भी नहीं था कि एक गरीब घर का बच्चा भी अंतर्राष्ट्रीय स्पर्धा में मेडल लेकर आएगा। आपकी सरकार में दिल्ली के सरकारी शिक्षा प्रणाली में भी शानदार सुधार आया है।

वहीं, अभिषेक वर्मा ने सीएम अरविंद केजरीवाल का आभार जताते हुए कहा कि अगर हमें दिल्ली सरकार से वित्तीय मदद नहीं मिलती तो मैं आज इस उपलब्धि को हासिल नहीं कर पाता। दिल्ली सरकार की मदद की बदौलत ही मैं आज यहां हूं। मैं सरकारी स्कूल में पढा हूं। अगर मुझे सरकार से मदद नहीं मिलती तो मैं आज इस मुकाम पर नहीं होता। दिल्ली सरकार की स्कीम के जरिए मुझे सारी सुविधाएं मिली और अच्छी प्रैक्टिस कर पाया। आपके द्वारा दिए गए कैश इंसेंटिव ने मेरी जिंदगी बदल दी और मैं यह मुकाम हासिल कर पाया। मैं एक घर ले पाया और परिवार की जरूरतें पूरी कर पाया। मैं आपकी ही मदद से बहुत नीचे से इस मुकाम तक पहुंचा हूं। मेरे जैसे दिल्ली में जितने भी खिलाड़ी हैं, सरकार की स्कीम से उनकी भी जिंदगी बदल सकती है। उन्होंने सीएम से अनुरोध किया कि इसी तरह आगे भी हमारे उपर अपना आशीर्वाद बनाए रखिएगा।

इस दौरान सीएम अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली में स्पोर्ट्स को बढ़ावा देने के लिए और क्या-क्या किया जा सकता है, इस बारे में भी उनके साथ चर्चा की। सीएम ने कहा कि हमारी सरकार दिल्ली के अंदर स्पोर्ट्स को बढ़ावा देने के लिए कई पहलें की हैं। हम खिलाड़ियों की प्रतिभा को निखारने के लिए मिशन एक्सीलेंस और प्ले एंड प्रोग्रस स्कीम के तहत कैश अवार्ड देते हैं। सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि हमारी कोशिश है कि हमारे देश के खिलाड़ी अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में ज्यादा से ज्यादा मेडल जीत कर लाएं। इसके लिए हमें उनको जो भी सहूलियतें देनी पड़ेगी, हम देंगे। खेलों को बढ़ावा देने के लिए हमने दिल्ली स्पोर्ट्स यूनिवर्सिटी की शुरूआत की है। हमारा मकसद है कि पूरे देश से प्रतिभावान खिलाड़ियों को तलाश कर यहां लाएं और उनके हुनर को और निखाकर उन्हें अंतर्राष्ट्रीय पर खेलने का अवसर प्रदान करें।

सीएम अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा कि एशियन गेम्स में भारत के लिए गोल्ड मेडल लाने वाले दिल्ली के खिलाड़ी पवन सहरावत और उनके परिवार को आज अपने घर चाय पर बुलाया। पवन सहरावत गोल्ड जीतने वाली भारतीय कबड्डी टीम के कप्तान हैं। पवन को उनकी शानदार जीत की बधाई दी एवं भविष्य के लिए शुभकामनाएं दीं। ऐसे ही दिल्ली और देश का नाम रोशन करते रहो।

सीएम अरविंद केजरीवाल ने एक अन्य ट्वीट कर कहा कि एशियन गेम्स में भारत को तीरंदाज़ी में सिल्वर और गोल्ड समेत दो पदक दिलाने वाले भारतीय खिलाड़ी अभिषेक वर्मा एवं उनके परिवार को भी आज अपने आवास पर चाय पर बुलाया। अभिषेक वर्मा ने अब तक तीन एशियन गेम्स में कुल 5 पदक भारत को दिलाए हैं। ये बड़ी उपलब्धि है। उन्हें उनकी शानदार जीत की बधाई दी एवं भविष्य के लिए शुभकामनाएं दीं। अभिषेक वर्मा दिल्ली सरकार की मिशन एक्सिलेंस स्कीम का हिस्सा हैं। इस स्कीम का हमारे खिलाड़ियों को बहुत फ़ायदा हो रहा है और नतीजे शानदार आ रहे हैं।

केजरीवाल सरकार की स्कीमों से बदल रही खिलाड़ियों की जिंदगी

केजरीलवाल सरकार अपनी विभिन्न स्कीमों और पहलों के जरिए दिल्ली के खिलाड़ियों की जिंदगी बदल रही है। दिल्ली सरकार ने दिल्ली में प्रतिभावान खिलाड़ियों की प्रतिभा को निखारने के लिए वित्तीय सहायता प्रदान करती है। इसके लिए 2018 में ‘मिशन एक्सिलेंस’ योजना की शुरूआत की गई। इस योजना के जरिए खिलाड़ियों को प्रशिक्षण, कोचिंग प्राप्त करने और अन्य जरूरतों के लिए वित्तीय सहायता देकर अंतर्राष्ट्रीय स्तर के टूर्नामेंट और प्रतियोगिताओं के लिए तैयार किया जा रहा है। योजना के तहत खिलाड़ियों को अंतरराष्ट्रीय स्तर की प्रतिभा हासिल करने के लिए 16 लाख रुपए तक की वित्तीय सहायता दी जाती है। जबकि प्ले एंड प्रोग्रेस स्कीम के तहत 17 साल से कम उम्र के खिलाड़ियों को दो से तीन लाख रुपए की वित्तीय मदद की जाती है।