21.8 C
New Delhi
Tuesday, March 5, 2024

Advertisementspot_imgspot_imgspot_imgspot_img
HomeIsraeli Village: इजरायल के इस गांव में हर तरफ लाशें....गर्भवती महिला के...

Israeli Village: इजरायल के इस गांव में हर तरफ लाशें….गर्भवती महिला के गर्भ में पल रहे बच्‍चे तक को हमास आतंकियों ने मार डाला!


Dead bodies everywhere in this Israeli village.

शनिवार को गाजा में हुए हमास के हमले का इजरायल मुंहतोड़ जवाब दे रहा है। गाजा के कुछ हिस्‍सों पर उसने फिर से कब्‍जा कर लिया है और इनमें से ही एक है वह गांव जिसका नाम है किबुत्‍ज कफर अजा। यह गांव अब हमास की दरिंदगी का जीता-जागता सबूत बन गया है। यहां की हर दीवार हमास के उस चेहरे को बयां करती है जो किसी राक्षस से कम नहीं है। यह वह गांव है जहां पर आतंकियों ने घर में घुसकर परिवारों को मार डाला, बच्‍चों का बेदर्दी से कत्‍ल किया और यहां तक कि जानवरों को भी नहीं छोड़ा। यहां तक कि गर्भवती महिला और गर्भ में पल रहे उसके बच्‍चे को भी नहीं छोड़ा:

मां की काटी गर्भनाल, पेट में तोड़ा बच्‍चे ने दम

दक्षिणी इजरायल में हमास आतंकियों की दरिंदगी की कहानी सुनकर आपके रोंगटे खड़े हो जाएंगे। आतंकियों ने एक गर्भवती महिला को पकड़ लिया और उसकी हत्‍या कर दी। आतंकी यही नहीं रुके उन्‍होंने उसके शव को भी क्षत-विक्षत कर दिया। इसके बाद उसकी अम्बिलिकल कॉर्ड यानी गर्भनाल को काटकर उसके गर्भ को निकाल लिया। वह मासूम जो दुनिया में आने वाला था, उसने अपनी मां के गर्भ में ही दम तोड़ दिया। इजरायल डिफेंस फोर्स (आईडीएफ) की तरफ से विदेशी मीडिया को उस जगह पर ले जाया गया जहां पर हमास ने मौत का नंगा नाच किया था। आईडीएफ के सैनिक घर-घर जाकर शवों को बॉडी बैग में इकट्ठा कर रहे थे और उन्हें ट्रक पर लाद रहे थे।

सेना को पहुंचने में लगे 12 घंटे

आईडीएफ ने कहा कि कफर अजा में मारे गए लोगों में बच्चे, महिलाएं और बुजुर्ग शामिल थे। सीमा पर रहने वाले समुदायों पर हमलों की जो जानकारियां आ रही है, वो काफी भयानक हैं। कफर अजा, किबुत्ज का वह इलाका है जो कृषि का क्षेत्र है और जिसने शनिवार को हमास के हमले का सबसे ज्‍यादा खामियाजा भुगता है। किबुत्‍ज तक पहुंचने में इजरायली सेना को 12 घंटे तक का समय लग गया था। यहां पर पैराट्रूपर्स की अनुभवी टीम, यूनिट 71 के डिप्‍टी कमांडर डेविडी बेन सियोन की अगुवाई में आतंकियों से मोर्चा ले रही है।

जिंदा जलाया लोगों को
सियोन ने बीबीसी को बताया, ‘भगवान का शुक्र है कि हमने कई माता-पिता और बच्चों की जान बचा ली। दुर्भाग्य से, कुछ को मोलोटोव ने जला दिया गया था। वो जानवरों की तरह बहुत ही दरिंदे हैं।’ बेन सियोन ने बताया कि हमास के बंदूकधारी बिल्‍कुल जेहादी मशीन की तरह काम कर रहे थे। उन्होंने बच्चों सहित परिवारों को मार डाला। बिना हथियारों के यहां रहने वाले लोग सिर्फ सामान्य नागरिक थे और नाश्ता कर रहे थे और उन पर ही आतंकियों ने हमला कर दिया। उन्होंने बताया कि कुछ लोगों का तो सिर पीड़ितों का सिर धड़ से अलग कर दिया गया।

यह सब बहुत भयानक
सियोन ने कहा कि यह सबकुछ देखना बहुत ही भयानक है। हमें याद रखना चाहिए कि दुश्मन कौन है और हमारा मिशन क्या है। न्याय जहां एक सही पक्ष है और पूरी दुनिया का समर्थन हमें मिल रहा है। एक और अधिकारी ने खून से सने बैंगनी रंग के स्लीपिंग बैग की तरफ इशारा किया। सूजे हुए पैर का अंगूठा बाहर निकल आया था। उन्होंने कहा कि नीचे की महिला की उसके सामने के बगीचे में हत्या कर दी गई थी और उसका सिर धड़ से अलग कर दिया गया था। कुछ ही दूरी पर हमास के आतंकी की लाश पड़ी थी। इस गांव में भी सेना को लाशों का ढेर मिला है।