20.7 C
New Delhi
Tuesday, March 5, 2024

Advertisementspot_imgspot_imgspot_imgspot_img
Homeगांवो मे जारी किए जा रहे फंड का दिल्ली भाजपा अध्यक्ष मे...

गांवो मे जारी किए जा रहे फंड का दिल्ली भाजपा अध्यक्ष मे किया स्वागत।

Delhi BJP President welcomed the funds being released in villages.

दिल्ली भाजपा अध्यक्ष ने ग्रामीण क्षेत्रों में डी.डी.ए. के माध्यम से विकास कार्यों के लिए उपराज्यपाल द्वारा रूपए 800 करोड़ का फंड जारी करने का स्वागत किया

दिल्ली के ग्रामीण क्षेत्रों की जनता मुख्य मंत्री अरविंद केजरीवाल से जानना चाहती है की चाहें ग्रामीण आंचल का विकास हो, फसल नुकसान अथवा जमीन अधिग्रहण मुआवज़ा हो या फिर परिवहन, स्वास्थ्य, शिक्षा सुविधा सभी में केजरीवाल सरकार ग्रामीणों की उपेक्षा क्यों करती है — वीरेन्द्र सचदेवा

नई दिल्ली 3 अक्टूबर : दिल्ली भाजपा अध्यक्ष श्री वीरेंद्र सचदेवा ने डी.डी.ए. के अध्यक्ष एवं दिल्ली के उपराज्यपाल श्री विनय कुमार सक्सेना द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों में डी.डी.ए. के माध्यम से विकास कार्य शुरू करने के लिए 800 करोड़ रुपये का फंड जारी किये जाने का स्वागत किया है।

हाल ही में दिल्ली भाजपा अध्यक्ष के नेतृत्व में दिल्ली भाजपा के वरिष्ठ नेताओं और ग्राम पंचायत नेताओं के एक प्रतिनिधिमंडल ने उपराज्यपाल से मुलाकात की थी और उन्हें दिल्ली के किसानों और ग्रामीण इलाकों के अन्य निवासियों की समस्याओं से अवगत कराया था।

मांगें मुख्य रूप से गांवों पर लगाए गए संपत्ति कर को वापस लेने, दिल्ली के लिए कृषि स्थिति की बहाली के साथ-साथ दूर-दराज के ग्रामीण क्षेत्रों में विकास कार्यों की कमी से संबंधित थीं।

बैठक के दौरान दिल्ली भाजपा अध्यक्ष ने उपराज्यपाल से आग्रह किया था की आम आदमी पार्टी सरकार से जुड़े किसानों के लियें खेती क्षेत्र स्थिति की बहाली और संपत्ति कर को वापस लेने जैसी अन्य राहतों में समय लग सकता है, लेकिन ग्रामीण क्षेत्रों के लिए विकास निधि जल्द से जल्द जारी की जानी चाहिए।

दिल्ली भाजपा के प्रतिनिधिमंडल की मांग पर संज्ञान लेते हुए उपराज्यपाल ने मामले की त्वरित जांच कराई और डी.डी.ए. के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्रों के विकास के लियें 800 करोड़ रुपये का बड़ा फंड दिया है।

श्री वीरेंद्र सचदेवा ने कहा है की दिल्ली के ग्रामीण क्षेत्रों की जनता मुख्य मंत्री अरविंद केजरीवाल से जानना चाहती है की चाहें ग्रामीण आंचल का विकास हो, फसल नुकसान अथवा जमीन अधिग्रहण मुआवज़ा हो या फिर परिवहन, स्वास्थ्य, शिक्षा सुविधा सभी मे केजरीवाल सरकार ग्रामीणों की उपेक्षा क्यों करती है।