Wednesday, April 24, 2024
23.1 C
New Delhi

Rozgar.com

23.1 C
New Delhi
Wednesday, April 24, 2024

Advertisementspot_imgspot_imgspot_imgspot_img
HomeStatesMadhya Pradeshअयोध्या पैदल यात्रा में देवांग की सड़क हादसे में मौत, मां ने...

अयोध्या पैदल यात्रा में देवांग की सड़क हादसे में मौत, मां ने अंगदान करने का फैसला किया

 देवास

21 साल की उम्र में बेटा दुनिया छोड़कर चला जाए और मां उसके अंगदान करके किसी को नया जीवन देने का प्रयास करे। सुनकर यकीन नहीं होता, लेकिन यह हौसला दिखाया है रश्मि जोशी ने। इस मां पर जब दुःख का पहाड़ टूटा तो उसने अपने दुःखों को भूलकर वह किसी को नया जीवन देने के बारे में सोचा। उन्होंने निर्णय लिया कि वे खुद को संभालेंगी परिवार को भी संबल देंगी और अपने बेटे के अंगदान Organ Donation से किसी को नया जीवन देंगी।

अयोध्या जाते समय हुआ हादसा
21 वर्षीय देवांग जोशी देवास से अयोध्या राम मंदिर Ayodhya Ram Mandir के लिए निकला था। अपने साथियों के साथ पदयात्रा कर रहा देवांग सांची के पास रोड एक्सीडेंट का शिकार हो गया। उपचार के लिए उसे पहले बंसल हॉस्पिटल भोपाल ले जाया गया बाद में उसे बॉम्बे हॉस्पिटल इंदौर लाया गया। यहां पर उसने अंतिम सांस ली। बेटे के जाते ही परिवार बदहवास हो गया लेकिन मां रश्मि जोशी ने हिम्मत रखी। उन्होंने इस मुश्किल घड़ी में भी बेटे के अंगदान का फैसला लिया और किसी को नया जीवन देने के बारे में सोचा। देवांग के पिता चंद्रमणि जोशी और छोटी बहन जाह्रनवी ने भी इस पुण्यकार्य के लिए सहमति दी। रश्मि देवास में पटवारी हैं। उनके इस हौसले को आज पूरा शहर सलाम कर रहा है।

12.30 पर बनेगा ग्रीन कारिडोर
चिकित्सक डॉ अमित जोशी एवं मुस्कान ग्रुप के सेवादार जीतू बगानी और संदीपन आर्य ने देवांग के ब्रेन डेथ के बाद परिवार से अंगदान की विनती की थी। परिजनों ने स्वीकृति दी और अब अंगदान की दिशा में तैयारियां प्रारंभ की गई हैं। आज संभवतः दोपहर 12:30 बजे बॉम्बे हॉस्पिटल से चोइथराम हॉस्पिटल के लिए ग्रीन कॉरिडोर बनने की संभावना है।

देवांग को जन्म से ही एक किडनी
देवांग जोशी को जन्म से ही शरीर में एक किडनी है जो बॉम्बे हॉस्पिटल में पंजीकृत 42 वर्षीय महिला रोगी को प्रत्यारोपित की जा रही है एवं लिवर चोइथराम हॉस्पिटल के पंजीकृत रोगी को प्रत्यारोपित किया जाएगा। इंदौर के सांसद शंकर लालवानी और संभागआयुक्त मालसिंह इसकी सतत मॉनिटरिंग कर रहे हैं। सोसाइटी फॉर ऑर्गन डोनेशन के सचिव डॉ संजय दीक्षित एवं नोडल ऑफिसर डॉ मनीष पुरोहित के समन्वय में यह काम किया जा रहा है।