Tuesday, May 28, 2024
36.1 C
New Delhi

Rozgar.com

34.1 C
New Delhi
Tuesday, May 28, 2024

Advertisementspot_imgspot_imgspot_imgspot_img
HomeStatesChhattisgarhछत्‍तीसगढ़ में पूर्व मंत्री अनिला भेड़िया के प्रतिनिधि के ठिकानों पर ED...

छत्‍तीसगढ़ में पूर्व मंत्री अनिला भेड़िया के प्रतिनिधि के ठिकानों पर ED की बड़ी कार्रवाई

बालोद
छत्‍तीसगढ़ में ईडी की छापेमारी लगातार जारी है। इसी क्रम में ईडी ने छत्‍तीसगढ़ में शुक्रवार को 12 जगहों पर छापा मारा है। ईडी की टीम का कोरबा, बैकुंठपुर, बालोद, बिलासपुर के अलावा अन्‍य जगहों पर सर्च आपरेशन जारी है।

ईडी की टीम ने आज बालोद में दबिश दी है। टीम ने पूर्व मंत्री अनिला भेड़िया के प्रतिनिधि पीयूष सोनी के यहां छापा मारा है। ईडी के अफसर दो वाहनों में सवार होकर सुबह तड़के 6 बजे पीयूष सोनी के डौंडी स्थित घर पर सुबह पहुंची। ईडी के अफसर पीयूष सोनी से पूछताछ कर रही है।

बैकुंठपुर में जनपद सीईओ के यहां ईडी का छापा

इधर, कोरबा जिले में डीएमएफ घोटाले की जांच की आंच कोरिया जिले तक पहुंच गई है। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की टीम पहली बार कोरिया जिले के बैकुंठपुर पहुंची है। ईडी की टीम ने जनपद सीईओ राधेश्याम मिर्झा के यहां छापेमारी की है। राधेश्याम मिर्झा बैकुंठपुर के जल संसाधन विभाग के विश्राम गृह में निवास कर रहे हैं।

शुक्रवार सुबह ईडी के अधिकारी विश्राम गृह पहुंचे। उन्होंने जांच शुरू की है। राधेश्याम , बैकुंठपुर जनपद पंचायत के सीईओ थे। इसके पहले वे कोरबा जिले के पोड़ी उपरोड़ा ब्लाक में पदस्थ थे। कांग्रेस शासन में तीन वर्षों तक सीईओ रहने के दौरान डीएमएफ में बड़ी गड़बड़ी की शिकायत है। यह राज्य की सबसे बड़ी जनपद पंचायत है, जहां 146 ग्राम पंचायतें हैं।

पोड़ी-उपरोड़ा जनपद पंचायत में डीएमएफ का काम उनके कार्यकाल में हुआ था। करोड़ो रूपये के फर्जीवाड़ा के आरोप है। खबर है कि डीएमएफ में अनियमितता को लेकर छापे की कार्रवाई की जा रही है।क्योंकि दूसरा कोई कारण सामने नहीं आया है। जनपद सीईओ राधेश्याम का पिछले दिनों सूरजपुर की प्रतापपुर जनपद में किया गया है। उन्होंने अभी पदभार ग्रहण नहीं किया है।

अधिकारियों ने छापे को लेकर कुछ भी बताने से इनकार कर दिया है। राधेश्याम मिर्झा कांग्रेस शासनकाल में प्रभावशाली अधिकारी रहे हैं। उनका मूल पद मंडल संयोजक का है फिर भी वे कई लग्जरी गाड़ियों के मालिक हैं। रसूखदार होने के साथ ही वसूली को लेकर वे विवादों में रहे हैं। ईडी की टीम दस्तावेज और डिजिटल उपकरण की जांच कर रही है।