20.7 C
New Delhi
Tuesday, March 5, 2024

Advertisementspot_imgspot_imgspot_imgspot_img
HomeG20 Summit India: रूस के लिए क्‍यों बड़ी जीत है जी20 का...

G20 Summit India: रूस के लिए क्‍यों बड़ी जीत है जी20 का घोषणा पत्र।

G20 Summit India: Putin did not come to G20 but he got a big victory.

G20 Summit India: इस सम्‍मेलन से रूस के राष्‍ट्रपति व्‍लादिमीर पुतिन ने किनारा कर लिया था। लेकिन पहले दिन जो कुछ हुआ, उससे वह काफी खुश होंगे। जी20 में पुतिन आए नहीं लेकिन उन्‍हें बड़ी जीत हासिल हुई है। युक्रेन युद्ध का जिक्र तो हुआ लेकिन रूस का नाम नहीं लिया गया। विदेश नीति के जानकार इसे रूस के लिए बड़ी जीत मान रहे हैं। जो घोषणा पत्र जारी किया गया है, वह बिल्‍कुल उसी तरह से है जैसा पिछले साल इंडोनेशिया के बाली में जारी किया गया था।

Screenshot 2023 09 09 at 6.31.20 PM
G20 Summit India: रूस के लिए क्‍यों बड़ी जीत है जी20 का घोषणा पत्र। 2

क्या हैं इस घोसणा पत्र में ?

G20 Summit India: जी20 के इस घोषणा पत्र में कहा गया है, ‘हम गहरी चिंता के साथ अपार मानवीय पीड़ा और इसके प्रतिकूल प्रभाव पर ध्यान देते हैं। साथ ही दुनिया भर में युद्ध और संघर्ष पर भी हमारा ध्‍यान है। यूक्रेन में युद्ध के संबंध में बाली में हुई चर्चा को याद करते हुए हमने अपनी बात दोहराई है। इस घोषणा पत्र में सभी देशों को संयुक्त राष्‍ट्र सुरक्षा परिषद और संयुक्त राष्‍ट्र के उद्देश्यों और सिद्धांतों के अनुरूप कार्य करने की सलाह दी गई है। इसमें कहा गया है कि किसी भी देश को क्षेत्रीय अखंडता के विरुद्ध क्षेत्रीय अधिग्रहण के लिए बल का प्रयोग और किसी राज्य की संप्रभुता या राजनीतिक स्वतंत्रता खत्‍म करने से बचना होगा।

यह शिखर सम्मेलन कोई राजनीतिक मंच नहीं हैं

G20 Summit India: G20 में साफतौर पर कहा गया हैं कि परमाणु हथियारों का उपयोग या इनके उपयोग की धमकी देना स्‍वीकार नहीं किया जाएगा। भारत में आयोजित जी20 सम्‍मेलन में यह दोहराया गया है कि यह एक अंतरराष्‍ट्रीय आर्थिक सहयोग का प्रमुख मंच है। इसमें कहा गया है कि इसे भू-राजनीतिक समाधान करने का मंच नहीं माना जाना चाहिए। घोषणा पत्र के मुताबिक यूक्रेन में युद्ध के मानवीय कष्‍टों और उसके नकारात्मक प्रभावों पर भी बात की गई है। साथ ही तुर्की और रूस के बीच काला सागर अनाज सौदे को बहाल करने का अनुरोध भी किया गया है ताकि दुनिया को एक बड़े संकट से बचाया जा सके।

सभी देशों की अहम भूमिका हैं

G20 Summit India: घोषणा पत्र में सभी देशों अंतरराष्‍ट्रीय कानून के सिद्धांतों को बनाए रखने की अपील की गई है। साथ ही एक ऐसी अखंडता और संप्रभुता, अंतरराष्‍ट्रीय मानवीय कानून और बहुपक्षीय प्रणाली को अपनाने के लिए कहा गया है जो शांति और स्थिरता की रक्षा करता है। इस घोषणा पत्र में कूटनीति और बातचीत को प्रमुखता दी गई है। कहा जा रहा है कि गुटनिरपेक्ष देशों के गठबंधन, भारत, इंडोनेशिया, ब्राजील और दक्षिण अफ्रीका ने जी7 और यूरोपियन यूनियन को रूस और यूक्रेन पर हल्के पैरा पर सहमत होने के लिए प्रेरित किया। जबकि बाली में दिसंबर 2022 में हुए जी20 सम्‍मेलन में रूस की ‘निंदनीय आक्रामकता’ का जिक्र किया गया है। वहीं दिल्‍ली में हुए इस सम्‍मेलन में रूस की आलोचना करने वाली भाषा शामिल नहीं है।

यह भी पढ़ें :https://www.khabronkaadda.com/congress-delhi-head-visit-kalkaji-mandir/