24.1 C
New Delhi
Saturday, March 2, 2024

Advertisementspot_imgspot_imgspot_imgspot_img
HomeGhulam Nabi: ग़ुलाम नबी आज़ाद ने मुस्लमान और कश्मीर पर दिया बड़ा...

Ghulam Nabi: ग़ुलाम नबी आज़ाद ने मुस्लमान और कश्मीर पर दिया बड़ा बयान।

Ghulam Nabi: A video of former Congress leader Ghulam Nabi Azad from Doda district of Jammu and Kashmir is going viral.

Ghulam Nabi: कांग्रेस के पूर्व नेता गुलाम नबी आजाद का जम्मू-कश्मीर के डोडा जिले का एक वीडियो वायरल हो रहा है। वीडियो में आजाद कहते दिख रहे हैं कि इस्लाम का जन्म 1500 साल पहले हुआ था। भारत में कोई भी बाहरी नहीं है। हम सभी इस देश के हैं। भारत के मुसलमान मूल रूप से हिंदू थे, जो बाद में कनवर्ट हो गए।

यहां देखें वीडियो :

नबी ने कहीं ऐसी बातें

Ghulam Nabi: गुलाम नबी आज़ाद ने कहा हिंदू धर्म इस्लाम से भी पुराना है। सभी मुसलमान पहले हिंदू ही थे। हमारे देश में मुसलमान हिंदू से धर्मांतरण होने के बाद हुए हैं। कश्मीर में सभी मुसलमान कश्मीरी पंडितों से धर्मांतरित हुए हैं। सभी का जन्म हिन्दू धर्म में ही हुआ है।
गुलाम नबी आजाद ने कहा कि भारत में इस्लाम 1500 साल पहले अस्तित्व में आया था जबकि हिंदू धर्म इस्लाम से भी पुराना है। 10-20 मुसलमान होंगे जो मुगल सेना के सैनिक होंगे और भारत आए होंगे। अन्यथा पूरा भारत हिंदू है और इसका उदाहरण कश्मीर में मौजूद है। 600 सौ पहले कश्मीर में कोई मुसलमान नहीं था और वहां सभी कश्मीरी पंडित थे।

भारत के मुसलमान मूल रूप से हिंदू थे: आजाद

Ghulam Nabi: आजाद ने कहा कि भारत में कोई भी बाहरी नहीं है। हम सभी इस देश के हैं। भारत के मुसलमान मूल रूप से हिंदू थे, जो बाद में कनवर्ट हो गए। आजाद ने कहा कि ‘हम बाहर से नहीं आए हैं इसी मिट्टी की पैदावार है। इसी मिट्टी में खत्म होना है’।

सभी लोग हिंदू धर्म में पैदा हुए थे: आजाद

Ghulam Nabi: उन्होंने कहा कि हमारे बीजेपी के किसी लीडर ने बताया कि कोई बार से आए हैं कोई अंदर से आए हैं। मैंने कहा कि अंदर-बाहर से कोई नहीं आया। सब हिदूं धर्म में पैदा हुए। कश्मीरी पंडितों ने इस्लाम कबूल कर लिया, इसलिए मैंने कहा कि सभी लोग हिंदू धर्म में पैदा हुए थे। हमारे हिंदू भाई मरते हैं तो उन्हें जलाया जाता हैं। उसके बाद अवशेष दरिया में डाल देते हैं, जो जल निकायों में चली जाती है। उस पानी का उपयोग सिंचाई में भी किया जाता है और वह फिर से हम फसलों के रूप में उपयोग करते हैं। उसे पी भी जाते हैं। 

यह भी पढ़ें :https://www.khabronkaadda.com/teaching-learning-app-was-organized-in-delhi/