16.8 C
New Delhi
Tuesday, March 5, 2024

Advertisementspot_imgspot_imgspot_imgspot_img
HomeHaryana: रॉबर्ट वाड्रा से जुड़े जमीन खरीद घोटाले के कागज बाढ़ में...

Haryana: रॉबर्ट वाड्रा से जुड़े जमीन खरीद घोटाले के कागज बाढ़ में हुए खराब।

Haryana: Robert Vadra’s name cropped up in the land scam in Haryana’s Gurugram.

Haryana: हरियाणा के गुरुग्राम में जमीन घोटाले में कांग्रेस की दिग्गज नेता सोनिया गांधी के दामाद रॉबर्ट वाड्रा का खूब नाम उछला. हरियाणा सरकार ने जांच के लिए एसआईटी तक बनाई. अब इस मामले में बड़ी बात सामने आई है. राबर्ट वाड्रा से जुड़े स्काई लाइट जमीन खरीद मामले से जुड़े कागज बाढ़ में खराब हो गए हैं. बैंक की तरफ से यह जानकारी एसआईटी टीम को दी गई है. अब पूरा मामला एक बार फिर से गरमा गया है.

Screenshot 2023 07 22 at 12.24.12 PM
Haryana: रॉबर्ट वाड्रा से जुड़े जमीन खरीद घोटाले के कागज बाढ़ में हुए खराब। 2

Haryana: हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज ने इस मामले पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा हैं कि एसआईटी जांच कर रही है और कुछ दस्तावेज यूनियन बैंक से मांगे गए थे. बैंक ने बताया है कि बाढ़ आने की वजह से कागज सारे खराब हो गए है. विज ने कहा कि ये जवाब संतोषजनक नहीं है. उन्होंने कहा कि एसआईटी ने बैंक से दोबारा डिटेल मांगी है कि सिर्फ स्काईलाइट के कागज ही खराब हुए है या जो अन्य प्लेडेज प्रॉपर्टीज के कागज भी खराब हुए है, इस बारे में भी जानकारी मांगी गई है. विज यहां पत्रकारों द्वारा रॉबर्ट वाड्रा के स्काईलाइट कंपनी के बारे में पूछे गए सवाल का जवाब दे रहे थे. उन्होंने कहा कि हम कोशिश करेंगे कि जल्द ही इस मामले में हमें जानकारी मिले.

हर मामलें में पंजाब का विरोध करना ठीक नहीं – विज

Haryana: चंडीगढ़ में हरियाणा विधान सभा के लिए मिली भूमि के खिलाफ पंजाब कांग्रेस द्वारा किए जा रहे विरोध और राज्यपाल को दिए गए ज्ञापन के बारे में पूछे गए सवाल के जवाब में विज ने कहा कि जिस प्रकार से पाकिस्तान के नेता भारत का विरोध किए बिना अपनी राजनीति नहीं कर पाते, उसी प्रकार से पंजाब में भी ऐसी ही मानसिकता बनती जा रही है कि हरियाणा का हर मामले में विरोध करना है. उन्होंने कहा कि ये नेता जनता में तभी स्वीकार्य होंगे, जब वो हरियाणा का किसी न किसी बिंदु पर विरोध करते हैं, उन्होंने चंडीगढ़ में भूमि को लेकर कहा कि पंजाब का विरोध करना वाजिब नहीं है और हमने अपनी जमीन अप्लाई की है. सारे विषयों को ध्यान में रखकर ये हमारा जमीन का मामला विचाराधीन है.

यह भी पढ़ें: CHATTISGARH: परिवारों के लिए संजीवनी बनी मुख्यमंत्री शहरी स्लम स्वास्थ्य योजना