24.1 C
New Delhi
Saturday, March 2, 2024

Advertisementspot_imgspot_imgspot_imgspot_img
Home‘‘मैं पूरे देश में सबके लिए शिक्षा-स्वास्थ्य फ्री करना चाहता हूं’’-सीएम केजरीवाल।

‘‘मैं पूरे देश में सबके लिए शिक्षा-स्वास्थ्य फ्री करना चाहता हूं’’-सीएम केजरीवाल।

“I want to make education and health free for everyone in the whole country” – CM Kejriwal.

  • देश में जहां भी आम आदमी पार्टी की सरकार बनेगी, वहां हम सबसे पहले शिक्षा और स्वास्थ्य को ठीक करेंगे- अरविंद केजरीवाल
  • जब तक हम पूरे देश में शिक्षा-स्वास्थ्य पर काम नहीं करेंगे, तब तक भारत दुनिया का नंबर-1 देश नहीं बन सकता- अरविंद केजरीवाल
  • जबसे हमारी सरकार बनी है, तब से कच्ची कॉलोनियों में सड़क, सीवर व पानी समेत अन्य विकास कार्य करा रहा हूं- अरविंद केजरीवाल
  • 70 साल में 1800 कच्ची कॉलोनियों में से सिर्फ 250 में सड़कें बनी थी, हमने 7 साल में 825 नई कालोनियों में 3.5 हजार किमी सड़कें बनवा दी- अरविंद केजरीवाल
  • हमारी सरकार बनने से पहले 884 कच्ची कॉलोनियों में पानी की पाइप लाइन थी, हमने सभी कॉलोनियों में पाइप लाइन डलवा दी- अरविंद केजरीवल
  • हमारी सरकार से पहले 230 कच्ची कॉलोनियों में सीवर लाइन थी, हमने 750 नई कॉलानिया में सीवर लाइन डलवा दी है- अरविंद केजरीवाल
  • सुप्रीम कोर्ट ने चुनी हुई सरकार को सारी पावर दी थी, लेकिन इन्होंने कानून बनाकर फिर से हमारी पावर छीन ली- अरविंद केजरीवाल
  • हमें इनसे लड़ना नहीं है, सुप्रीम कोर्ट के आदेश का इंतजार करेंगे और इतनी पावर में ही दिल्ली के लोगों की सेवा करते रहेंगे- अरविंद केजरीवाल
  • ग्रेटर कैलाश के पंचशील विहार और खिड़की एक्सटेंशन-1 व 2 में 10.60 किमी सड़क और 7.45 किमी ड्रेन निर्माण कार्य पूरा

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने गुरुवार को ग्रेटर कैलाश विधानसभा क्षेत्र के पंचशील विहार और खिड़की एक्टेंशन-1 व 2 में हुए विकास कार्यों का उद्घाटन किया। यहां 10.60 किमी सड़क और 7.45 किमी ड्रेन का निर्माण किया गया है। सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि पहले यहां बहुत बुरा हाल था, लेकिन अब पूरी कॉलोनी में सड़कें, सीवर और पानी की पाइप लाइन डाल दी गई हैं। जबसे हमारी सरकार बनी है, तभी से मैं कच्ची कॉलोनियों में सभी विकास कार्य करा रहा हूं। पिछले सात साल में हमने 825 कच्ची कॉलोनियों में 3.5 हजार किमी सड़कें बनवाई हैं और दिसंबर तक बची सारी कॉलोनियों में सड़कें बन जाएंगी। सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि मैं पूरे देश में हर तबके के लिए शिक्षा और स्वास्थ्य फ्री करना चाहता हूं। देश में जहां भी हमारी सरकार बनेगी, वहां हम सबसे पहले शिक्षा-स्वास्थ्य को ठीक करेंगे। जब तक पूरे देश में शिक्षा-स्वास्थ्य पर काम नहीं होगा, तब तक भारत दुनिया का नंबर-1 देश नहीं बन सकता। इस दौरान स्थानीय विधायक एवं स्वास्थ्य मंत्री सौरभ भारद्वाज और स्थानीय पार्षदों ने गदा भेंट कर मुख्यमंत्री का सम्मान किया।

2013 में मैंने पूरी दिल्ली में पदयात्रा की, तब कच्ची कॉलोनियों का बहुत बुरा हाल था- अरविंद केजरीवाल

सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि नवंबर 2012 में हम लोगों ने आम आदमी पार्टी बनाई। दिल्ली की जनता यह तो जानती थी कि एक अरविंद केजरीवाल है, जिसने अन्ना आंदोलन के साथ भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ा था। उसके बाद 2013 में हम दिल्ली के गली-गली में खूब पदयात्रा की। तब मैं दिल्ली को समझा। दिल्ली में ढेरों कच्ची कॉलोनियां हैं। सड़कें टूटी पड़ी थीं। बारिश के दिनों में लोगों की जिंदगी नरक बन जाती थी। एक कॉलोनी में एक व्यक्ति अपने घर ले गया। उसने दिखाया कि कितना बुरा हाल है। चारों तरफ कीचड़ हो रहा है, घर से बाहर नहीं निकल सकते हैं। उसने बताया कि रिश्तेदार तक मिलने नहीं आते हैं। बच्चों का रिश्ता नहीं हो पा रहा है। तब मैंने सोचा था कि दिल्ली वालों ने मुझे मौका दिया है, सबसे पहले दिल्ली की कच्ची कॉलोनियों का उद्धार करूंगा। तभी से मैं कच्ची कालोनियों में विकास कार्य करा रहा हूं।

दिसंबर तक बची सारी कच्ची कॉलोनियों में सड़कें बन जाएंगी- अरविंद केजरीवाल

सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि अभी तक कच्ची कालोनी में रहने वाले लोगों के साथ केवल राजनीति हुई है। नेता आते थे और पल्ला झाड़कर चले जाते थे। यहां पर भी पहले प्राइवेट सीवर होता था। चोंक होने पर लोग आपस में पैसा इकट्ठा करके उसको ठीक कराते थे। पानी की पाइप लाइन नहीं थी। सडक भी नहीं थी। दिल्ली में करीब 1800 कच्ची कॉलोनियां हैं। हमारी सरकार बनने से पहले आजादी के 70 साल में केवल 250 कच्ची कॉलोनियां में सड़कें बनी थी। वहीं, मेरी सरकार आने के बाद मैंने पिछले सात साल में 825 नई कच्ची कॉलोनियों के अंदर सड़कें बनवा दी है। मैंने कच्ची कॉलोनियों के अंदर 3.50 हजार किलोमीटर सड़कें बनवाई हैं। दिसंबर तक बची सारी कच्ची कॉलोनियों में सड़कें बन जाएंगी।

मैं नेतागिरी करने के लिए राजनीति में नहीं आया हूं, मैं पढ़ा-लिखा हूं, इंजीनियर हूं, मुझे काम करना आता है- अरविंद केजरीवाल

सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि जब हमारी सरकार बनी, तब केवल 884 कच्ची कॉलोनियों में पानी की पाइप लाइन थी। मैंने दिल्ली की सभी कच्ची कॉलोनियों में पानी पहुंचा दिया है। अब कोई कच्ची कॉलोनी नहीं बची है, जिसमें पानी की पाइप लाइन नहीं है। जब हमारी सरकार बनी, तब सिर्फ 230 कच्ची कॉलोनियों में सीवर की पाइप लाइन थी। हमने 750 नई कच्ची कॉलोनियों में सीवर की पाइप लाइन डाली है। हमने करीब 2500 किलोमीटर सीवर और पानी पाइप डाली है। मुझे राजनीति नहीं करनी आती है और न तो मैं नेतागिरी करने के लिए राजनीति में आया हूं। मैं पढ़ा लिखा हूं, इंजीनियर हूं, मुझे काम करना आता है।

हमारे सरकारी स्कूल दिल्ली की शान बन गए हैं, इनको देखने के लिए बाहर से लोग आते हैं- अरविंद केजरीवाल

सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि यहां आसपास कई सरकारी स्कूल भी अच्छे हो गए हैं। चिराग दिल्ली, स्वागी नगर, मालवीय नगर में सरकारी स्कूल अच्छे हो गए हैं। यहां ढेर सारे लोगों ने अपने बच्चों का प्राइवेट स्कूल से नाम कटवा कर सरकारी स्कूल में भर्ती करा दिया है। यह हमारे लिए गर्व की बात है। जबकि पूरे देश में सरकारी स्कूलों का बेड़ा गर्क है। पहले दिल्ली में भी बहुत बुरा हाल था। कोई अपने बच्चे को सरकारी स्कूल में नहीं भेजना चाहता था। आज सरकारी स्कूल दिल्ली की शान बन गए हैं। हमारे सरकारी स्कूलों को देखने के लिए बाहर से लोग आते हैं। सरकारी स्कूलों के नतीजे प्राइवेट स्कूलों से बेहतर आ रहे हैं। पिछले तीन-चार साल में 4 लाख बच्चों ने प्राइवेट स्कूल से नाम कटवा कर सरकारी स्कूल में एडमिशन लिया है।

पूरी दिल्ली में सबसे ज्यादा मोहल्ला क्लीनिक ग्रेटर कैलाश विधानसभा क्षेत्र में हैं- अरविंद केजरीवाल

सीएम अरविंद केजरीवाल ने स्थानीय विधायक एवं मंत्री सौरभ भारद्वाज की तारीफ करते हुए कहा कि सौरभ भारद्वाज ने अब तक ग्रेटर कैलाश विधानसभा क्षेत्र में 11 मोहल्ला क्लीनिक बनवा दिया है। पूरी दिल्ली में सबसे ज्यादा मोहल्ला क्लीनिक ग्रेटर कैलाश विधानसभा क्षेत्र के अंदर है। पहले सरकारी डिस्पेंसरी हुआ करती थी और उसका हाल बहुत बुरा होता था। डॉक्टर नहीं मिलता था, दवाइयां नहीं मिलती थी। अब दिल्ली में शानदार मोहल्ला क्लीनिक हो गए हैं। यहां पास में स्थित मदन मोहन मालवीय अस्पताल का पहले बुरा हाल होता था, अब वो भी शानदार हो गया है। हमारी सरकार बनने से पहले इस अस्पताल में रोजाना मुश्किल से 500 लोग जाते थे, लेकिन आज रोजाना 5 हजार लोग अपना इलाज कराने के लिए जाते हैं। इस अस्पताल के बाहर पहले 7 दवाइयों की दुकान होती थी। डॉक्टर पर्ची पर दवा लिख देता था और मरीज को बाहर से दवा लेनी पड़ती थी। अब सारी दवाइयों की दुकानें बंद हो गई हैं। क्योंकि अब अस्पताल में सारी दवाइयां फ्री में मिलती हैं।

हम सरकारी स्कूल इतने शानदार बना देंगे कि वो प्राइवेट स्कूलो से मुकाबला करेंगे- अरविंद केजरीवाल

सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि जब हम अपने देश में शिक्षा-स्वास्थ्य पर काम नहीं करेंगे, तब तक भारत दुनिया में नंबर-1 देश नहीं बन सकता। हर बच्चे को अच्छी शिक्षा मिलनी चाहिए और हर आदमी को अच्छा इलाज मिलना चाहिए। जब तक इसका इंतजाम नहीं करेंगे, भारत दुनिया में नंबर वन नहीं बन सकता, चाहे बातें जितनी कर लो। जापान, लंदन, अमेरिका, फ्रांस ने अपने बच्चों के लिए अच्छी शिक्षा का इंतजाम किया। वहां शिक्षा और स्वास्थ्य सेवाएं फ्री हैं। मैं भी पूरे देश में शिक्षा और स्वास्थ्य सभी के लिए फ्री करना चाहता हूं। आप अपने बच्चे को प्राइवेट स्कूल में भेजना चाहते हैं, हमें कोई दिक्कत नहीं है, लेकिन हम स्कूल इतने शानदार बना देंगे कि वो प्राइवेट स्कूल से मुकाबला करेंगे।

पूरे देश में सड़कें, बिजली और पानी ठीक होना चाहिए, तभी देश तरक्की करेगा- अरविंद केजरीवाल

सीएम अरविंद केजरीवाल ने पंजाब में हमने एक साल में 650 मोहल्ला क्लीनिक बना दिए हैं। अब सरकारी स्कूल भी ठीक करना शुरू कर दिए हैं। जहां पर भी आम आदमी पार्टी की सरकार बनेगी, वहां हम सबसे पहले शिक्षा-स्वास्थ्य को ठीक करना चालू करेंगे। इसके अलावा पूरे देश में इंफ्रास्ट्रक्चर ठीक होनी चाहिए। पूरे देश में सड़कें, बिजली, पानी ठीक होना चाहिए, तब देश तरक्की करेगा। दिल्ली में अब 24 घंटे बिजली आती है, जबकि पहले नहीं आती थी। उन्होंने कहा कि खिड़की एक्टेंशन में सोनिया विहार से गंगा वाटर आता है। हो सकता है कि अभी पर्याप्त पानी नहीं मिल पाता हो, हम उसे बढा भी देंगे। गली-गली में सीसीटीवी कैमरे लग गए। सभी कॉलोनियों में स्ट्रीट लाइट काम कर रही हैं।

हम बड़ी कठिनाइयों में काम कर रहे हैं, हमारे हर काम में टांग अड़ाया जाता है- अरविंद केजरीवाल

सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि हम बड़ी कठिनाइयों में काम कर रहे हैं। हमारे हर काम में टांग अड़ाया जाता है। कुछ दिन पहले ही सुप्रीम कोर्ट ने ऑर्डर किया था कि दिल्ली में चुनी हुई सरकार के पास सारी पावर होनी चाहिए ताकि वो जनता की जरूरतें पूरी कर सके। इन्होंने ऑर्डर के एक सप्ताह के अंदर कानून लाकर फिर से हमारी पावर छीन ली। लेकिन हमें इनसे लड़ना नहीं है। मैं पहले एक छोटा सा आदमी थी। मुझे कोई नहीं जानता था। यह आप सभी का प्यार और उपर वाले का आशीर्वाद था कि आज इतनी बडी जिम्मेदारी मिल गई। हम सुप्रीम कोर्ट में गए हैं और उसके आदेश का इंतजार करेंगे। हमारे पास जितनी पावर है, उतनी ही पावर से दिल्ली की जनता की सेवा करते रहेंगे। बिजली, पानी, शिक्षा, स्वास्थ्य, सडकें और नाली समेत हर चीज का इंतजाम करते रहेंगे।

अब तक मैं 75 हजार बुजुर्गों को तीर्थ यात्रा करा चुका हूं, अगली ट्रेन 28 सितंबर को जाएगी- अरविंद केजरीवाल

सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि हमने तीर्थयात्रा योजना भी शुरू की है। दिल्ली के 60 साल से अधिक उम्र के बुजुर्गों को हम तीर्थ यात्रा पर भेजते हैं। रामेश्वरम्, द्वारकाधीश, पुरी, मथुरा-वृंदावन, त्रषिकेष, अयोध्या, अजमेर सरीफ समेत 12 जगहों में से किसी एक की यात्रा कराते हैं। यह यात्रा दिल्ली सरकार अपने खर्चे पर पूरी कराती है। बस तीर्थ यात्रियों को उनके घर से रेलवे स्टेश नतक लेकर जाती है। वहां से एसी ट्रेन में लेकर जाते हैं। एसी होटल में ठहरना और आना सब फ्री है। अभी तक मैं 75 हजार बुजुर्गों को तीर्थ यात्रा करा चुका हूं। दो सप्ताह पहले तीर्थयात्री रामेश्वरम् गए थे। पिछले हफ्ते द्वारकाधीश गए थे और अब 28 सितंबर को अगली ट्रेन जाएगी। हर बुजुर्ग एक युवा व्यक्ति को अटेंडेंट के रूप में अपने साथ लेकर जा सकता है।

सरकार ने दिल्ली में पानी का उत्पादन बढ़ाने के लिए पिछले कुछ सालों से कई नए तरीके अपनाए हैं-सौरभ भारद्वाज

स्वास्थ्य मंत्री सौरभ भारद्वाज ने कहा कि सीएम अरविंद केजरीवाल अनधिकृत कॉलोनियों में सड़क, सीवर के कार्य की लगातार जानकारी लेते रहते हैं। दिल्ली की हमेशा से समस्या रही है कि वर्तमान में दिल्ली को जितना पानी मिलता है, वह पानी 1994 में हुए पांच राज्यों के करार के अनुसार मिलता है। दिल्ली को हरियाणा के यमुना और यूपी के गंगा नदी से पानी मिलता है। पिछले 30 सालों में दिल्ली की काफी आबादी बढ़ गई है। लेकिन दिल्ली को 1994 में हुए समझौते के अनुसार ही पानी मिल रहा है। दिल्ली के अंदर पानी नहीं बढ़ा लेकिन पिछले 9 सालों में सैकड़ों कॉलोनियों में नई पाइप लाइन डाली गई और पानी भी दिया गया। यह किसी जादू से कम नहीं है। यह एक प्रबंधन है, जिसे मुख्यमंत्री समझते हैं। सीएम हर सप्ताह जल बोर्ड की बैठक करके कहते हैं कि पानी कैसे बढ़ाया जाए। पिछले कुछ सालों से कई नए तरीके अपनाए जा रहे हैं, जिससे दिल्ली का पानी बढ़ाया जा रहा है। यह खिड़की एक्टेशन नहीं है, बल्कि यह मुझे विधायक बनाने वाला दरवाजा है। यह वो जगह है, जिसने मुझे विधायक बनाया। 2013 में एक कंपनी में इंजीनियर की नौकरी करता था। मेरा कोई राजनीतिक पृष्ठभूमि नहीं थी। इसके बाद भी सीएम अरविंद केजरीवाल ने मुझे टिकट दिया और ग्रेटर कैलाश की जनता ने मुझे विधायक बनाया।

ग्रेटर कैलाश में विकास कार्यों की स्थिति

ग्रेटर कैलाश में जलभराव की समस्याओं के निपटारे और बेहतर सुविधाएं देने के लिए सड़कों व गलियों के नव निर्माण से संबंधित कई प्रोजेक्ट्स पर काम चल रहा रहा है। स्वास्थ्य मंत्री एवं ग्रेटर कैलाश से ‘‘आप’’ के विधायक सौरभ भारद्वाज ने पिछले पांच सालों में क्षेत्र के लिए विभिन्न विकास कार्य किए हैं। ग्रेटर कैलाश में मुख्यतः तीन हिस्सों में किए गए विकास कार्यों पर पिछले पांच सालों में 899.81 लाख रुपए खर्च किए गए हैं। 545.27 लाख रुपए से 11 विकास कार्य अभी चल रहे हैं। इसके आलावा 456.54 लाख रुपए की लागत से आठ प्रोजेक्ट्स अभी प्रक्रिया में है।

एक लाख से अधिक लोगों को मिलेगा फायदा

ग्रेटर कैलाश विधानसभा क्षेत्र के पंचशील विहार कॉलोनी में 3.8 किलोमीटर लंबी सड़क और 2.7 किलोमीटर लंबी ड्रेन का निर्माण कार्य किया गया है। खिड़की एक्सटेंशन पार्ट वन में 3.5 किलोमीटर लंबी सड़क व 2.35 किमी लंबी ड्रेन और खिड़की एक्सटेंशन पार्ट दो में 3.30 किलोमीटर लंबी सड़़क और 2.45 किमी लंबी ड्रेन का निर्माण किया गया है। इस तरह यहां कुल 10.60 किमी सड़क और 7.45 किमी ड्रेन निर्माण किया गया है। इस विकास कार्य से एक लाख से अधिक लोगों को फायदा होगा।

विकास कार्यों का विवरण

  1. ग्रेटर कैलाश विधानसभा क्षेत्र में पिछले पांच सालों में डीवीडीबी 4515 के तहत 509.26 लाख रुपए से 14 प्रोजेक्ट्स पूरे किए गए हैं। यहां 359.64 लाख लागत से पांच प्रोजेक्ट्स पर काम चल रहा है और 119.77 लाख रुपए की लागत से दो प्रोजेक्ट्स अभी प्रक्रिया में हैं।
  2. ग्रेटर कैलाश में पिछले पांच सालों में एमएलए लैड योजना के तहत 390.55 लाख रुपये के खर्चे पर छरू प्रोजेक्ट्स पूरे किए गए हैं। इसके साथ ही यहां 107.28 लाख के पांच प्रोजेक्ट्स पर काम चल रहा है और 86.55 लाख रुपये के तीन प्रोजेक्ट्स अभी प्रक्रिया में हैं जिन पर काम शुरु किया जाना है।
  3. ग्रेटर कैलाश में पिछले पांच सालों में एमएसपीवाई योजना के तहत अभी 78.35 लाख रुपये की लागत से एक प्रोजेक्ट्स पर काम चल रहा है और 250.22 लाख रुपए की लागत के तीन प्रोजेक्ट्स अभी पाइपलाइन में हैं।