Tuesday, May 28, 2024
33.1 C
New Delhi

Rozgar.com

34.1 C
New Delhi
Tuesday, May 28, 2024

Advertisementspot_imgspot_imgspot_imgspot_img
HomeStatesDelhi Newsगुरुग्राम में बैंककर्मी ने ग्राहकों की एफडी तोड़कर किया 88 लाख रुपये...

गुरुग्राम में बैंककर्मी ने ग्राहकों की एफडी तोड़कर किया 88 लाख रुपये का गबन

गुरुग्राम
सर्व हरियाणा ग्रामीण बैंक की झाड़सा ब्रांच के बैंक असिस्टेंट पर 88 लाख रुपये के गबन का आरोप लगा है। ब्रांच की मौजूदा मैनेजर की ओर से आरोप लगाकर पुलिस को शिकायत दी गई। आरोप है कि कई ग्राहकों की एफडी तोड़कर आरोपी ने इन ग्राहकों के नाम से खोले गए फर्जी खातों में ये राशि ट्रांसफर की। फिर इस राशि को आगे अपने व परिचितों के खातों में ट्रांसफर कर लिया गया। आरोपी असिस्टेंट, उसकी पत्नी व दो रिश्तेदारों के खिलाफ सदर थाना में एफआईआर दर्ज की गई है।

पुलिस को ये शिकायत सर्व हरियाणा ग्रामीण बैंक की झाड़सा ब्रांच की सीनियर मैनेजर खुशबू सक्सेना की ओर से दी गई है। साजिश के तहत फर्जी दस्तावेज तैयार कर ठगी का आरोप दिल्ली नजफगढ़ के अर्जुन पार्क में अब रह रहे बिहार सिवान के मूल निवासी सुधीर कुमार, सुधीर की पत्नी रुचि कुमारी, उसके रिश्तेदार दिल्ली नजफगढ़ के अर्जुन पार्क निवासी श्रीकांत ओझा और दिल्ली के महावीर एंक्लेव निवासी महिला मधुमति सिंह पर लगाया गया है। आरोप है कि सुधीर इस ब्रांच में ऑफिस असिस्टेंट के पद पर कार्यरत था।

फर्जी एफडी स्लिप जारी की
आरोप है कि बैंक की एक कस्टमर कृष्णा के नाम पर आरोपी ने फर्जी खाता खोल लिया जबकि इस महिला कृष्णा के नाम पर एक खाता पहले से ही था। कृष्णा के नाम पर 50 लाख रुपये की एफडी को प्री-मेच्योर ही तोड़कर आरोपी ने नए खोले गए फर्जी खाते में ट्रांसफर कर लिया। इसी तरह कई कस्टमर के बैंक खाते से जुड़े मोबाइल नंबर को आरोपी ने बदल दिया। जिसके बाद उनकी एफडी तोड़कर आरोपी ने अपने व परिचितों के खाते में ट्रांसफर कर ली। एक महिला कस्टमर से एफडी के नाम पर साढ़े 5 लाख रुपये लेकर उसे फर्जी एफडी स्लिप जारी कर दी।

एक महिला से साढ़े 5 लाख रुपये ठगेआरोप है कि कुल 6 खातों के जरिये आरोपी ने 82 लाख 76 हजार 369 रुपये का गबन किया। साथ ही एक महिला से साढ़े 5 लाख रुपये ठगे। ऐसे में ठगी की कुल राशि 88 लाख 26 हजार 369 रुपये बताई गई है। शिकायत पर आर्थिक अपराध शाखा की टीम ने जांच की। वहां की प्राथमिक जांच में आरोप सही मानकर अब सदर थाना में एफआईआर दर्ज की गई है। साथ ही आगे की कार्रवाई व जांच के लिए फाइल आर्थिक अपराध शाखा को ही सौंप दी गई है।