27.1 C
New Delhi
Friday, March 1, 2024

Advertisementspot_imgspot_imgspot_imgspot_img
HomeINDIA alliance in UP: मायावती के इस एलान से यूपी में साफ...

INDIA alliance in UP: मायावती के इस एलान से यूपी में साफ हुई INDIA गठबंधन की तस्वीर?

Mayawati’s announcement cleared the picture of INDIA alliance in UP?

INDIA alliance in UP: मायावती (Mayawati) ने लोकसभा चुनाव से पहले बने इंडिया (INDIA) और एनडीए (NDA) की गठबंधन की उम्मीदों पर पानी फेर दिया है. उन्होंने साफ कर दिया कि बसपा (BSP) दोनों मोर्चों में से किसी के साथ शामिल नहीं होगी. बता दें कि दोनों गठबंधन लोकसभा चुनाव की जंग में उतरने से पहले कुनबे का विस्तार करने की रणनीति पर काम कर रहे थे. एनडीए और इंडिया गठबंधन मायावती को पाले में लाने के लिए डोरे डाल रहा था. मायावती के बयान से साफ हो गया कि अब बसपा किसी भी गठबंधन का हिस्सा नहीं बननेवाली है।

INDIA alliance in UP: बता दें कि इस समय यूपी में इंडिया गंठबंधन में सपा, कांग्रेस और रालोद जैसे दल एक साथ हैं. वहीं इंडिया गठबंधन को छोटे-मोटे दलों का भी साथ मिला है, इसके अलावा यूपी एनडीए में बीजेपी, सुभासपा, निषाद पार्टी और अनुप्रिया पटेल अपना दल (एस) हैं. अब यूपी में इंडिया और एनडीए गठबंधन की तस्वीर मुख्य रूप से साफ हो गई है।

NDA-INDIA गठबंधन में मायावती किसके साथ?

INDIA alliance in UP: बसपा पुराने फॉर्मूले पर 2024 का लोकसभा लड़ेगी. विपक्षी दलों के गठबंधन इंडिया को मायावती से कुछ ज्यादा उम्मीद थी. जानकारों का कहना था कि मायावती के आने से लोकसभा चुनाव में इंडिया गठबंधन एनडीए के मंसूबे को झटका दे सकता है. बीजेपी ने उत्तर प्रदेश की 80 सीटों पर कमल खिलाने का लक्ष्य रखा था. मायावती के एनडीए का हिस्सा बनने पर बीजेपी को मिशन 80 को पूरा करने में सहयोग मिलने की उम्मद थी. अब उन्होंने रुख साफ कर दिया है.

मीडिया से फर्जी खबर नहीं फैलाने की अपील की 

INDIA alliance in UP: मायावती की पार्टी बसपा किसी भी गठबंधन में लोकसभा का चुनाव लड़ने नहीं जा रही है. बसपा के इंडिया की छतरी से बाहर होने पर अब अखिलेश यादव की समाजवादी पार्टी (SP) और जयंत चौधरी की रालोद, कांग्रेस और वाम दल बच गई है. मायावती ने एलान किया है बसपा लोकसभा का चुनाव अकेले लड़ेगी. उन्होंने इंडिया गठबंधन की तरफ से बीजेपी की बी टीम बताए जाने पर भी निशाना साधा. दोनों गठबंधन से किनारा करते हुए मायावती ने मीडिया से फर्जी खबर नहीं फैलाने की अपील की. ट्वीट के जरिए उन्होंने एनडीए और इंडिया गठबंधन के ज्यादातर घटक दलों को गरीब-विरोधी, जातिवादी और  सांप्रदायिक बताया. उन्होंने कहा कि इसीलिए गठबंधन की छतरी में चुनाव लड़ने का सवाल पैदा नहीं होता।

यह भी पढ़े- सरकार ने दिया रक्षाबंधन का गिफ्ट, एलपीजी सिलेंडर हुआ सस्ता।