29 C
New Delhi
Friday, March 1, 2024

Advertisementspot_imgspot_imgspot_imgspot_img
HomeModi government: क्या देश का अंग्रेजी नाम खत्म करने जा रही मोदी...

Modi government: क्या देश का अंग्रेजी नाम खत्म करने जा रही मोदी सरकार, क्या करेगा ‘INDIA’?

Is Modi government going to end the English name of the country?

Modi government: संसद के विशेष सत्र की तमाम चर्चाओं के बीच देश का नाम बदले जाने की चर्चा भी जोर पकड़ रही है. दो दिनों में इस आशय की इतनी खबरें सामने आईं, जिनसे देश का नाम बदले जाने जैसी भावना के संकेत मिलते हैं।

NARENDRA MODI
Modi government: क्या देश का अंग्रेजी नाम खत्म करने जा रही मोदी सरकार, क्या करेगा 'INDIA'? 2

Modi government: मंगलवार सुबह ही सामने आया कि , भारत के प्रेसीडेंसी G20 ने नया हैंडल G-20 भारत लॉन्च किया हैं G20 के ठीक बाद केंद्र सरकार ने संसद का विशेष सत्र बुलाया है। इस एक लाइन ने बीते एक हफ्ते से सियासी हलकों में चर्चाओं का बाजार गर्म कर रखा है। संसद के विशेष सत्र में क्या होगा , इसकी अभी तक सिर्फ अटकलें ही हैं, लेकिन मंगलवार को एक और नई बात सामने आ गई. जिस तरह के संकेत मिल रहे हैं, कहा जाने लगा है कि संसद के विशेष सत्र के दौरान केंद्र सरकार, देश के नाम बदले जाने (India से भारत किए जाने) का प्रस्ताव रख सकती है।

I.N.D.I.A. गठबंधन को लगेगा झटका

Modi government: नाम बदला जाता है को इसके तहत अब देश का नाम सार्वजनिक और सार्वभौमिक रूप से भारत ही होगा, जल्द ही देश को INDIA, इंडिया कहा जाना बीते जमाने की बात हो सकती है. अगर ऐसा होता है तो यह अभी -अभी नए बने I.N.D.I.A. गठबंधन के लिए बड़ा झटका साबित होगा , जिसने खुद से खुद को देशहित का पर्याय मानते हुए अपने गठबंधन का नाम देश की इस इंग्लिश वर्तनी पर रख लिया था , ताकि उसे जब I.N.D.I.A. पुकारा जाए तो यह देश की आवाज लगे।

कैसे सामने आई देश का नाम बदलने की बात?

Modi government: असल में सोमवार से लेकर आज मंगलवार तक दो दिनों में इस आशय की इतनी खबरें सामने आईं, जिनसे देश का नाम बदले जाने जैसी भावना के संकेत मिलते हैं. मंगलवार सुबह ही सामने आया कि , भारत के प्रेसीडेंसी G20 ने नया हैंडल G-20 भारत लॉन्च किया है. यह G20 का अतिरिक्त एक्स अकाउंट होगा . इसके तहत G20 से संबधित टिप्पणियां और सूचनाएं भारत के आधिकारिक नाम से जारी की जाएंगी।

G20 के रात्रि भोज के निमंत्रण पर भी दर्ज हुआ भारत

Modi government: इसी तरह दूसरी खबर ये है कि राष्ट्रपति भवन ने 9 सितंबर को जी 20 डिनर के लिए जो निमंत्रण पत्र भेजा है, वह भी ‘भारत के राष्ट्रपति ‘ (‘President of Bharat’) के नाम से भेजा है। जबकि अभी तक इसके लिए सामान्य प्रचलन में President of India ही प्रयोग किया जाता रहा है. इस बारे में कांग्रेस सांसद जयराम रमेश ने X (ट्वीट) करके जानकारी दी है. कांग्रेस सांसद ने लिखा कि ‘तो ये खबर वाकई सच है… राष्ट्रपति भवन ने 9 सितंबर को G20 रात्रि भोज के लिए सामान्य ‘President of India’ के बजाय ‘भारत के राष्ट्रपति ‘ के नाम पर निमंत्रण भेजा है। इसकी पुष्टि करते हुए निमंत्रण पत्र की एक तस्वीर भी सामने आई है. यह निमंत्रण एक मंत्री के नाम पर आया है, जिस पर ‘भारत के राष्ट्रपति ‘ दर्ज है।

कई सांसद कर चुके हैं नाम बदलने की मांग

Modi government: इसी तरह सोमवार को खबर आई कि बीजेपी राज्य सभा सांसद हरनाथ सिंह यादव ने भारत के संविधान से इंडिया शब्द को हटाने की मांग की है उन्होंने कहा कि ‘इंडिया शब्द गुलामी का पर्याय है और संविधान संशोधन से इसको हटा देना चाहिए. हरनाथ सिंह जैसी ही बात नरेश बंसल ने भी की है. इन सांसदों का मानना है कि किसी देश के दो नाम हो सकते हैं क्या ? इन सांसदों का ये भी मानना हैं इंडिया ग़ुलामी का प्रतीक हैं जबकि , भारत हमारी विरासत की पहचान है।

RSS ने भी कहा – देश का एक नाम, सिर्फ भारत हो

Modi government: थोड़ा पीछे चलें तो आरएसएस भी इस लाइन में खड़ी दिखती है जो ऐसी ही मांग को दोहरा रही है। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) प्रमुख मोहन भागवत ने बीते शुक्रवार को कहा था कि इंडिया की जगह भारत का इस्तेमाल किया जाना चाहिए। उन्होंने लोगों से यह अपनी आदत में शुमार करने की अपील भी की। उन्होंने कहा कि भारत नाम प्राचीन काल से चला आ रहा है और इसे आगे बढ़ाया जाना चाहिए। भागवत ने बीते शुक्रवार को सकल जैन समाज के एक कार्यक्रम में पहुंचे हुए थे। उन्होंने कहा, “हमारे देश का नाम सदियों से भारत रहा है. भाषा कोई भी हो , नाम एक ही रहता है, उन्होंने कहां कि भारत एक ऐसा देश है जो सभी को एकजुट करता है और कहा , आज दुनिया को हमारी जरूरत है. हमारे बिना , दुनिया नहीं चल सकती, हमने योग के माध्यम से दुनिया को जोड़ा है।

यह भीे पढ़े- राजस्थान को केजरीवाल की गारंटी, ‘‘आप’’ की सरकार देगी 24 घंटे और मुफ्त बिजली।