Friday, May 24, 2024
31.1 C
New Delhi

Rozgar.com

31.1 C
New Delhi
Friday, May 24, 2024

Advertisementspot_imgspot_imgspot_imgspot_img
HomeStatesBihar-Jharkhandझारखंड में सरकारी स्कूल पर मस्जिद जैसी मीनारें, क्या है नया विवाद

झारखंड में सरकारी स्कूल पर मस्जिद जैसी मीनारें, क्या है नया विवाद

हजारीबाग
 जिले के इचाक प्रखंड के स्थित राजकीय प्राथमिक विद्यालय उर्दू, डुमरौन को धार्मिक स्थल के रुप में तब्दील कर दिया गया है। ग्रामीणों के विरोध के बावजूद एक पक्ष से जुड़े लोगों ने दिनदहाड़े प्रवेश द्वार की जगह बड़ा मीनार की आकृति का गेट बना दिया है।
हजारीबाग के इचाक में एक सरकारी उर्दू स्कूल है, राजकीय कृत प्राथमिक उर्दू विद्यालय, डुमरौन। 1976 से चल रहे इस स्कूल में अभी 52 बच्चे शिक्षा ग्रहण करते हैं। पिछले महीने के अंत में स्कूल के मेन गेट पर दो मीनार का निर्माण शुरू किया गया। करीब 35 फीट ऊंची मीनारों का निर्माण किया जा चुका है। मामले ने तब तूल पकड़ा जब पिछले 5-6 दिनों से स्थानीय अखबारों में खबरें प्रकाशित होने लगीं। सरकारी स्कूल पर मस्जिद जैसी मीनारें बनाए जाने की खबरें जंगल में आग की तरह फैलीं तो हिंदुवादी संगठनों को सरकार पर हमलवार होने का एक और मौका मिल गया। रविवार को कुछ लोगों ने निर्माण स्थल के सामने धरना प्रदर्शन किया। धरने में शामिल लोगो ने अवैध निर्माण को तत्काल हटाने और प्रधानाध्यापक नौशाद आलम सीआरपी और एसएमसी अध्यक्ष के खिलाफ ऐक्शन की मांग की। आक्रोशित ग्रामीणों ने डीसी को भी आवेदन दिया है। डीसी को सौंपे आवेदन में ग्रामीणों ने कहा है कि विद्यालय सरकारी है। जिस पर किसी भी प्रकार का निर्माण कार्य विभागीय आदेश के बिना कराया जाना अनुचित है।  

निजी जमीन होने का दावा
स्कूल के प्रवेश द्वार पर मीनार बनवाने वाले स्थानीय लोगों का दावा है कि यह उनकी निजी जमीन है। कागजात दिखाते हुए वह दावा करते हैं कि सरकारी स्कूल निजी जमीन पर निर्मित है। एक स्थानीय निवासी ने कहा, 'हमने यह प्रॉपर्टी सरकार को लिखित रूप में नहीं दी है, इसलिए यहां हम अपना धार्मिक कार्य करते रहेंगे।'

सीओ ने किया स्कूल का निरीक्षण  
शनिवार को इचाक के सीओ रामजी प्रसाद ने मौके पर जाकर निरीक्षण किया। उन्होंने सभी पक्षों से बातचीत की। सीओ ने पंचायत समिति सदस्य और ग्रामीणों से बात की और उनका पक्ष जाना। बताया कि प्रथम दृष्टया यह निर्माण अवैध दिख रहा है। इसकी जांच रिपोर्ट संबिधित वरिष्ठ अधिकारियों को सौंपी जाएगी। इचाक के बीईओ कार्यालय ने स्कूल के प्रधानाध्यापक नौशाद आलम और सीआरपी दीपक कुलकर्णी से स्पष्टीकरण पूछा था। साथ ही प्रखंड शिक्षा प्रसार कार्यालय से स्थानीय थाने को आवेदन देकर प्रधानाध्यापक और सीआरपी पर कानूनी कार्रवाई करने को कहा गया है। ताकि कानून-व्यवस्था ना बिगड़े।

पहले भी हो चुका विवाद
हजारीबाग के स्कूल में हुए विवाद की सोशल मीडिया पर भी खूब चर्चा हो रही है। लोग इसे पिछले साल झारखंड के कई स्कूलों में शुक्रवार को छुट्टी और प्रार्थना में किए गए बदलावों की घटना से जोड़ रहे हैं।  

 

गेट और मीनार की पूरी उंचाई करीब 35 फीट बताई जा रही है। पूरे प्रकरण में ग्रामीणों में भारी रोष है और 128 से अधिक ग्रामीणों ने इस मामले में प्रखंड से लेकर जिला तक आवेदन देकर गुहार लगाई है।

अध‍िकारी ने नहीं उठाया फोन

आश्चर्य की बात है कि इस माह पूर्व से इस मुद्दे को लेकर ग्रामीण उग्र है और आवेदन देकर जिला प्रशासन को अवगत करा रहे हैं। परंतु बावजूद सबके सब चुप है और प्राथमिक शिक्षा व्यवस्था को देखने वाले जिला शिक्षा अधीक्षक संतोष गुप्ता इस विषय पर बात तक नहीं कर रहे है।

दैनिक जागरण ने उनके मोबाइल पर भी संपर्क साधने का प्रयास किया, परंतु वे फोन तक नहीं उठाया। पूरे प्रकरण से नव नियुक्त बीइइओ इचाक डोमन मोची भी अंजान हो गए हैं।

100 से अधिक संख्या वाले इस विद्यालय में पिछले एक माह के दौरान ये मीनार बनाया गया है और मीनार बनने के बाद गांव में सांप्रदायिक तनाव की स्थिति बनती जा रही है। ग्रामीणों की माने तो निर्माण का विरोध किया गया, तो रात में काम प्रारंभ कर इसे पूरा करा दिया गया।