29 C
New Delhi
Friday, March 1, 2024

Advertisementspot_imgspot_imgspot_imgspot_img
HomeMulayam Singh Yadav: मुलायम सिंह यादव ने 19 साल पहले भारत नाम...

Mulayam Singh Yadav: मुलायम सिंह यादव ने 19 साल पहले भारत नाम रखे जाने का लाया था प्रस्ताव।

Mulayam Singh Yadav had brought the proposal to name Bharat 19 years ago.

Mulayam Singh Yadav: देश का नाम इंडिया नहीं भारत ही रखे जाने का मुद्दा हर तरफ चर्चा में है… इस बीच कई लोगों को सपा संस्‍थापक मुलायम सिंह यादव की याद आ रही है जिन्‍होंने 19 साल पहले इसका प्रस्‍ताव विधानसभा से पास कराया था…… मुलायम तब यूपी के सीएम थे… उन्‍होंने विधानसभा में न सिर्फ इंडिया का नाम भारत करनेके लिए प्रस्‍ताव रखा बल्कि इसे सर्वसम्‍मति से पास भी करा लिया……

Mulayam Singh Yadav: साल 2004 के चुनाव में समाजवादी पार्टी ने अपने घोषणापत्र में देश का नाम इंडिया से बदलकर भारत करने का जिक्र किया था… घोषणा पत्र में इसके लिए संविधान संशोधन की बात कही गई थी… जानकार बताते हैं कि चुनाव के बाद तीन अगस्‍त 2004 को मुख्‍यमंत्री मुलायम सिंह यादव ने विधानसभा में इंडिया का नाम बदलने का प्रस्‍ताव पेश किया… उनके द्वारा सदन में पेश प्रस्‍ताव सर्वसम्‍मति से पास कराने के बाद इसे केंद्र सरकार के पास भेजने की बात कही गई थी…

Mulayam Singh Yadav: प्रस्‍ताव के तहत क्या संशोधन होते हैं इसके बारें में बात करते हैं… दरअसल यूपी विधानसभा से पास इस प्रस्‍ताव के तहत संविधान के भाग-1 के अनुच्छेद-1 में ‘इंडिया दैट इज भारत’ के स्थान पर ‘भारत दैट इज इंडिया’ करने के लिए संशोधन किया जाना था… तब केंद्र सरकार के पास इस प्रस्ताव को भेजने की बात कही गई थी..

Mulayam Singh Yadav: सपा नेताओं का कहना है कि उनके नेता मुलायम सिंह यादव हमेशा से एक देश एक नाम के पक्षधर रहे थे… इंडिया का नाम भारत किए जाने का प्रस्ताव लाते हुए तत्कालीन मुख्‍यमंत्री मुलायम सिंह यादव ने कहा था, ‘मैं कहना चाहता हूं कि जहां लिखा है संविधान में ‘इण्डिया इज भारत’ वहां ‘भारत इज इण्डिया’ लिख दिया जाए, लेकिन उसमें भी आज की तारीख में वो तैयार नहीं है… मैं संसदीय कार्यमंत्री जी से कहूंगा कि वो प्रस्ताव यहां ले आयें विधान सभा में इसके बारे में और उसको पास करके संसद में भेजा जाए, इसमें क्या परेशानी है? ‘भारत इज इण्डिया’ अभी कर दिया जाए मैं इसका प्रस्ताव करता हूं…. माननीय उपाध्यक्ष जी हम प्रस्ताव करें कि संशोधन किया जाए, संविधान में जहां पर लिखा है ‘इण्डिया इज भारत’ वहां पर ‘भारत इज इण्डिया’ लिख दिया जाए… अगर अनुमति हो तो यह प्रस्ताव किया जाए। यह यहां से सर्वसम्मति से पास हो जाए?’

यह भी पढ़े- दो दिन क्यों मनाई जाती है श्रीकृष्ण जन्माष्टमी?