Saturday, June 15, 2024
34.1 C
New Delhi

Rozgar.com

34.1 C
New Delhi
Saturday, June 15, 2024

Advertisementspot_imgspot_imgspot_imgspot_img

कर्नाटक हाईकोर्ट ने यौन उत्पीड़न मामले में राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री की गिरफ्तारी पर रोक लगा दी

बेंगलूरू कर्नाटक हाईकोर्ट ने यौन उत्पीड़न मामले में राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा की गिरफ्तारी पर रोक लगा दी है। कोर्ट ने उनको राहत...
HomeReligionमहाशिवरात्रि पर 300 साल बाद बुध, शनि सूर्य की युति, पूजा-व्रत से...

महाशिवरात्रि पर 300 साल बाद बुध, शनि सूर्य की युति, पूजा-व्रत से मिलेगा 5 गुना अधिक फल

 महाशिवरात्रि 2024 बेहद खास है। इस साल महाशिवरात्रि त्योहार पर ढेर सारे ऐसे संयोग बन रहे हैं जो तीन शताब्दियों में भी बहुत कम बार बनते हैं। इसके साथ ही 2024 में 8 मार्च को शिव पूजा का पर्व महाशिवरात्रि शिवयोग में मनेगा। यह भी इस त्योहार की विशेषता बढ़ा रहा है। बहरहाल आइये जानते हैं कि फाल्गुन महाशिवरात्रि पर बनने वाले वो दुर्लभ योग कौन से हैं, जो 300 वर्ष में दो या तीन बार ही बनते हैं…

 साल 2024 की फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि पर शुक्रवार का दिन, श्रवण नक्षत्र के बाद धनिष्ठा नक्षत्र, शिवयोग, गरकरण और मकर-कुंभ राशि में चंद्रमा की साक्षी रहेगी। ग्रह गोचर की दृष्टि से भी अलग-अलग प्रकार के योग-संयोग बन रहे हैं, वहीं कुंभ राशि में सूर्य, शनि, बुध का युति संबंध रहेगा, यह युति श्रेष्ठ मानी जाती है। इस युति में जब कोई महापर्व आता है तो धर्म, सनातन परंपरा को, वैदिक परंपरा को विशेष रूप से प्रगति का आशीर्वाद देता है।

इस लिहाज से इस बार आने वाली 8 मार्च को महाशिवरात्रि विशेष रूप से पूजनीय है। इसी दौरान साधक उपासक आराधक यथा श्रद्धा भक्ति अपने व्रत उपवास को वैदिक पौराणिक नियमों के अनुसार पूरा करेंग, क्योंकि योगों की यह स्थिति बार-बार नहीं बनती।

तीन शताब्दी में एक या दो बार ही बनते हैं ये योग

 ग्रह-गोचर की गणना अनुसार देखें तो इस बार महाशिवरात्रि पर कुंभ राशि में सूर्य, शनि, बुध की युति रहेगी। क्योंकि कुंभ राशि का अधिपति शनि है और बुध उसका मित्र है। वहीं सूर्य इनके पिता हैं, तो पिता-पुत्र के संयुक्त अनुक्रम में यह एक प्रकार का विशेष योग बन रहा है। इस प्रकार के योग तीन शताब्दी में एक या दो बार बनते हैं, जब नक्षत्र, योग और ग्रहों की स्थिति केंद्र त्रिकोण से संबंध रखती हैं।

 ऐसी स्थिति में या योग में विशेष साधना विशेष फल प्रदान करती है। जैसा कि सूर्य को आध्यात्म का कारक और शनि को दर्शन तथा तीर्थ एवं धर्म के प्रति सद्भावना रखने का कारक माना गया है। इस दृष्टि से धर्म आध्यात्मिक संस्कृति का संपूर्ण विश्व में विशेष स्थान बढ़ेगा। लोगों की धार्मिकता बढ़ेगी, आध्यात्मिकता बढ़ेगी। वहीं तीन शताब्दी बाद महाशिवरात्रि सर्वार्थसिद्धि योग में मनेगी।

महाशिव की कृपा पाने का खास दिन
वर्षभर में आने वाली 12 शिवरात्रियों में यह शिवरात्रि खास होती है, फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी से युक्त यह शिवरात्रि महाशिवरात्रि की श्रेणी में आती है। इस दिन भगवान शिव की विशेष रूप से पूजन करनी चाहिए पूजन परंपरा में षोडशोपचार या पंचोपचार पूजन पंचाम्रताभिषेक अष्टाध्यायी रद्र, लघु रुद्र, महारुद्र आदि के माध्यम से भगवान शिव को प्रसन्न किया जा सकता है, वहीं अलग-अलग प्रकार से संकल्प युक्त होकर विशेष पूजन करने से भगवान शिव की कृपा प्राप्त होती है।

2024 के इस नक्षत्र में पूजा विशेष

पंचांग की गणना के अनुसार देखें तो नक्षत्र का अपना विशेष प्रभाव होता है, जब किसी विशेष नक्षत्र में कोई विशेष त्यौहार आता है, तो उसका फल भी उतना ही प्राप्त होता है। क्योंकि इस बार महाशिवरात्रि पर श्रवण नक्षत्र है और पूर्वाभाद्रपद नक्षत्र की भी स्थिति मध्य रात्रि में रहेगी। यह पंचक का नक्षत्र है, ऐसी मान्यता है कि पूर्वाभाद्र से लेकर के रेवती नक्षत्र के मध्य यदि कोई विशेष त्यौहार आता है तो ऐसी स्थिति में त्यौहार का अधिष्ठाता देवता की विशेष आराधना 5 गुना शुभ फल प्रदान करती है। इस दृष्टि को वैदिक रूप से मान्यता मिलती है, इस कारण इस दौरान विशेष पूजन करनी चाहिए जिसका फल 5 गुना प्राप्त हो सके।