20.7 C
New Delhi
Tuesday, March 5, 2024

Advertisementspot_imgspot_imgspot_imgspot_img
Homeलेटेस्टPran Pratistha: अगर प्राण प्रतिष्ठा करने से पत्थर सजीव हो जाता है,...

Pran Pratistha: अगर प्राण प्रतिष्ठा करने से पत्थर सजीव हो जाता है, तो मुर्दा क्यों नहीं चल सकता – स्वामी प्रसाद मौर्य।

84 / 100

Swami Prasad Maurya’s attack on the pran pratistha of Ram Ji.

Pran Pratistha: समाजवादी पार्टी के वरिष्‍ठ नेता स्‍वामी प्रसाद मौर्य ने अयोध्‍या के राममंदिर में रामलला प्राण प्रतिष्‍ठा को ढोंग और आडंबर बता दिया है. उन्‍होंने कहा कि प्राण प्रतिष्‍ठा से पत्‍थर सजीव हो जाता तो फिर तो कोई मरता ही नहीं. ऐसा हो सकता तो फिर मुर्दे क्‍यों नहीं चल सकते। रामलला की वह मूर्ति, जो नहीं चुनी गई राममंदिर के लिए – जानें अब कहां है प्रतिमा।

Pran Pratistha
Pran Pratistha: अगर प्राण प्रतिष्ठा करने से पत्थर सजीव हो जाता है, तो मुर्दा क्यों नहीं चल सकता – स्वामी प्रसाद मौर्य। 2

Pran Pratistha: स्‍वामी प्रसाद कर्पूरी ठाकुर सेना की ओर से गाजीपुर के लंका मैदान में आयोजित एक कार्यक्रम को सम्‍बोधित कर रहे थे. इस कार्यक्रम मे बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री कर्पूरी ठाकुर का शताब्दी वर्ष जयंती समारोह मनाया गया. इस दौरान समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव स्वामी प्रसाद मौर्या ने कहा कि उनका जीवन हम सबके लिए प्रेरणास्रोत है. कर्पूरी ठाकुर के बताए रास्ते पर चलकर ही इस मुल्क को भाजपा की तानाशाही हुकूमत से छुटकारा दिला सकते हैं।

https://twitter.com/khabronkaadda1

अयोध्‍या में हुए प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम को जनता के बुनियादी सवालों से ध्यान हटाने के लिए भाजपा का पाखंड बताते हुए उन्होंने कहा कि देश के संविधान और लोकतंत्र पर गहरा संकट है. भाजपा सरकार जनता के मौलिक अधिकारों पर कुठारघात कर रही है. वह विरोधियों की आवाज दबाने के लिए सीबीआई और ईडी का दुरुपयोग कर रही है।

https://www.youtube.com/@KhabronKaAdda

Pran Pratistha: स्वामी प्रसाद मौर्य ने कहा कि भाजपा सरकार को केवल बड़े पूंजीपतियों की चिंता है. उन्हें छोटे कारोबारियों और गरीबों की कोई चिंता नहीं है. उन्‍होंने कहा कि देश में बेरोजगारी पर चर्चा न हो इसलिए ऐसे ड्रामे किए जा रहे हैं. उन्होंने कहा कि भगवान राम की पूजा तो हजारों साल से हो रही है. हजारों साल से जिनकी पूजा करोड़ों लोग कर रहे हैं तो फिर उनके अंदर प्राण प्रतिष्ठा की जरूरत क्‍या है. सत्‍ता में बैठे लोग अपने पाप छिपाने के लिए ऐसे ड्रामे का सहारा ले रहे हैं।

यह भी पढ़े- गणतंत्र दिवस पर लड़ाकू जेट उड़ाएंगी आठ महिला पायलट।