24.1 C
New Delhi
Saturday, March 2, 2024

Advertisementspot_imgspot_imgspot_imgspot_img
HomePunjab: दिल्ली सीएम केजरीवाल और पंजाब सीएम भगवंत मान ने की उद्यमियों...

Punjab: दिल्ली सीएम केजरीवाल और पंजाब सीएम भगवंत मान ने की उद्यमियों से चर्चा।

Punjab: The AAP government under the leadership of CM Bhagwant Mann wants to provide such an environment to the industry of Punjab.

Punjab: सीएम भगवंत मान के नेतृत्व में ‘‘आप’’ की सरकार पंजाब की इंडस्ट्री को ऐसा माहौल देना चाहती है कि वो चीन की इंडस्ट्री को भी मात दे सकें। इंडस्ट्री को बढ़ावा देने के लिए लगातार दूसरे दिन शुक्रवार को भी दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल और पंजाब के सीएम भगवंत सिंह मान ने लुधियाना और मोहाली में ‘सरकार-उद्योगपति मिलनी’ कार्यक्रम के दौरान उद्यमियों के साथ चर्चा की। इस दौरान पंजाब के सीएम भगवंत मान ने इंडस्ट्री को प्रोत्साहित करने वाली करीब 58 पॉलिसी की घोषणा की। वहीं, दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि पंजाब में ये पहली बार हो रहा है कि कोई सरकार उद्यमियों के साथ बैठ कर उनकी समस्याओं पर चर्चा कर रही है। आज हमें ये तय करना है कि पंजाब की इंडस्ट्री को सिर्फ़ बचाना है या फिर चीन की इंडस्ट्री को हराना है। चीन की इंडस्ट्री को पंजाब की इंडस्ट्री हरा सकती है। इसके लिए हम पंजाब की इंडस्ट्री को उस स्तर पर लेकर जाना चाहते हैं, जब चीन को मात दे सकें। उन्होंने कहा कि पंजाब में अब हवा का रुख बदलने लगा है। यही वजह है कि जो इंडस्ट्री पंजाब से बाहर गई थीं, अब वो वापस आने लगी हैं।

WhatsApp Image 2023 09 15 at 10.08.04 PM
Punjab: दिल्ली सीएम केजरीवाल और पंजाब सीएम भगवंत मान ने की उद्यमियों से चर्चा। 7

हम वोट मांगने नहीं, उद्योगपतियों की समस्याएं सुनने और साथ मिलाकर पंजाब का विकास करने के लिए आए हैं- अरविंद केजरीवाल

Punjab: मोहाली और लुधियाना में आयोजित ‘सरकार-उद्योगपति मिलनी’ कार्यक्रम के दौरान दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि हम लोग वोट मांगने नहीं आए हैं। अक्सर नेताओं को चुनाव से पहले ही जनता की याद आती है और नेता जनता के बीच में केवल और केवल वोट मांगने के लिए जाते हैं। आज हम उद्योगपतियों के बीच आपके काम करने, आपकी समस्याएं सुनने और आपके साथ कंधे से कंधा मिलाकर पंजाब का विकास करने के लिए आए हैं। जापान के कंटीन्यूअस इंप्रूवमेंट पर उन्होंने कहा कि मैंने आईआईटी खड़गपुर से मैकेनिकल इंजीनियरिंग में आईआईटी पास किया है। इंजीनियरिंग में तीन साल बाद कहीं ट्रेनिंग करने के लिए जाना पडता है। 1988 में मैंने मारुति उद्योग में ट्रेनिंग की थी। उस दौरान जापान के लोगों का मारुति में हस्तक्षेप अधिक था। वहां सजेशन बॉक्स स्कीम थी। जापान के लोगों का मानना था कि शॉप फ्लोर पर काम करने वाला कर्मचारी सबसे ज्यादा उसको जानकारी है कि उस प्रक्रिया को कैसे और अच्छा किया जा सकता है। इसमें कोई भी पर्ची डालकर अपना सुझाव दे सकता था और उन पर्चियों को टॉप पर बैठे सीएमडी आदि पढ़ते थे। जिस कर्मचारी के सुझाव पर सबसे ज्यादा बचत होती थी, उसे कैश अवार्ड दिया जाता था। हमें कई सरकारी दफ्तरों में सुझाव पेटी दिखाई देते हैं। उसमें सुझाव डाल दो तो कोई नहीं पढ़ता है।

WhatsApp Image 2023 09 15 at 10.08.03 PM
Punjab: दिल्ली सीएम केजरीवाल और पंजाब सीएम भगवंत मान ने की उद्यमियों से चर्चा। 8

हमने हर पॉलिसी व्यापारियों और उद्यमियों से मिले सुझाव पर बनाया है- अरविंद केजरीवाल

Punjab: सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि सीएम भगवंत माने ने अखबारों में विज्ञापन देकर एक नंबर जारी किया और पंजाब के व्यापारियों और उद्यमियों से सुझाव मांगे। करीब 1500 सुझाव आए। भगवंत मान का नंबर था, यह कोई मामूली सुझाव पेटी नहीं है, बल्कि जपानी सजेशन स्कीम है। इस सुझाव पेटी में आए सभी 1500 सुझावों को खुद सीएम भगवंत मान ने पढ़ा और फिर निर्णय लिया। इसके बाद आज 58 पॉलिसी की घोषणा की गई है। हर पॉलिसी की घोषणा व्यापारियों और उद्यमियों से मिले सुझाव पर लिया गया है। हमारी सरकार व्यापारियों-उद्यमियों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर काम करना चाहती है। लोगों को यकीन नहीं हो रहा है कि बिना चुनाव के पंजाब और दिल्ली के मुख्यमंत्री एक साथ पंजाब में शहर-शहर जाकर उद्यमियों से बात कर रहे हैं। आज तक कभी ऐसा नहीं हुआ था। कभी ऐसा नहीं हुआ था कि पहले सुझाव मांगे गए थे और बिना चुनाव के उद्यमियों के बीच जाकर बात करते थे। पहले फंड लेने के लिए ही उद्यमियों को बुलाते थे, अन्यथा नहीं बुलाते थे।

अब लोगों को यकीन होने लगा है कि पंजाब बदल रहा है और निवेश किया जा सकता है- अरविंद केजरीवाल

Punjab: सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि अमृत में पहले स्टील और फाउंड्र की 882 यूनिट होती थी, लेकिन अब 126 ही बची हैं। बाकी सारी पंजाब से बाहर चली गई हैं। अभी चर्चा के दौरान ये बात सामने आई कि दूसरे राज्यों की पॉलिसी अच्छी है। लेकिन यहां बात सिर्फ पॉलिसी की नहीं है। हम भी अच्छी पॉलिसी बनाएंगे। पहले पंजाब के अंदर एक्सर्टाशन का माहौल था। नेता और अफसर इंडस्ट्री को नोंचने के लिए दौड़ते थे। पंजाब से इंडस्ट्री को लेकर तरह-तरह की कहानियां सुनने को मिलती थी। लोगों को डर लगता था और वे इंडस्ट्री उठाकर बाहर ले जाने लगे। यह हम लोगों ने सरकार बनने के बाद विरासत में पाया। डेढ़ साल के बाद पंजाब में एक बड़ा काम यह हुआ है कि पंजाब की हवा का रुख बदलने लगा है। जो इंडस्ट्री बाहर गई थीं, वो वापस आने लगी हैं। आसपास के राज्यों को छोड़कर करीब 450 इंडस्ट्री पंजाब में आई हैं। राज्यसभा के अंदर एक प्रश्न पूछा गया था कि पिछले एक साल के अंदर किस राज्य में कितनी एमएसएमई पंजीकृत हुई हैं। केंद्र सरकार का आंकड़ा है कि पिछले एक साल में सबसे ज्यादा 2.79 लाख एमएसएमई पंजाब पंजीकृत हुई हैं। यह बहुत बड़ी बात है। पंजाब के अंदर 3420 नए प्रोजेक्ट शुरू हो चुके हैं। बाहर से करीब 50 हजार करोड़ रुपए का निवेश आ चुका है, इससे 2.86 लाख युवाओं को नौकरी मिलेगी। इसमें छोटे-बड़े सभी तरह के उद्यमी हैं। यह फर्जी एमओयू नहीं है। अब लोगों को यकीन होने लगा है कि पंजाब बदल रहा है और पंजाब में निवेश किया जा सकता है।

WhatsApp Image 2023 09 15 at 10.08.01 PM 3
Punjab: दिल्ली सीएम केजरीवाल और पंजाब सीएम भगवंत मान ने की उद्यमियों से चर्चा। 9

जब आम आदमी पार्टी की सरकार बनी थी, तब पंजाब में कानून व्यवस्था की हालत बहुत खराब थी- अरविंद केजरीवाल

Punjab: सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि हमने विरासत में जबरदस्ती वसूली का वातावरण पाया था। लोगों से जबरदस्ती पैसे छीने जाते थे। लेकिन आज माहौल ये है कि इंडस्ट्री बाहर से आ रही हैं। जब हमारी सरकार बनी थी तब पंजाब में कानून व्यवस्था की हालत बहुत खराब थी। लोगों को फिरौती के फोन आते थे। मैं ये नहीं कह रहा हूं कि कानून व्यवस्था पूरी तरह से ठीक हो गई है, लेकिन आज पंजाब की कानून व्यवस्था में काफी सुधार है। इंडस्ट्री और बिजनेस को सबसे ज्यादा अच्छी कानून व्यवस्था की जरूरत होती है। इसके साथ ही भ्रष्टाचार में बहुत कमी आई है। पूरे पंजाब को एक मजबूत संदेश दिया गया है कि भ्रष्टाचार करने वाले लोगों को किसी भी कीमत पर छोड़़ा नहीं जाएगा। एक व्यापारी यही चाहता है। अब पूरे पंजाब के अंदर यह माहौल है कि ‘‘आप’’ की सरकार प्रो-इंडस्ट्री है और जनता के साथ मिलकर पॉलिसी बना रही है। इस सकारात्मक माहौल की वजह से पंजाब से बाहर जाने वाली इंडस्ट्री अब वापस आ रही हैं।

कई सरकारें सिंगल विंडो सिस्टम की बात करती हैं लेकिन कोई सिंगल विंडो नहीं होता- अरविंद केजरीवाल

Punjab: सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि मैं देश में जगह-जगह गया हूं। कई सरकार सिंगल विंडो सिस्टम की बात करती हैं लेकिन कोई सिंगल विंडो नहीं होता है। सिर्फ कहने के लिए सिंगल विंडो होता है, उसके बाद कई विंडो होती हैं और आदमी परेशान हो जाता है। लेकिन भगवंत मान द्वारा शुरू किया गया ग्रीन स्टैंप पेपर सिंगल विंडो करने का एक बड़ा क्रांतिकारी और इनोवेटिव तरीका है। इसमें जो कमियां हैं, उनको भी ठीक करेंगे। दिल्ली में उद्यमियों के साथ बैठक के दौरान पता चला कि उनको कुशल मैन पावर नहीं मिल रही है। जबकि युवा कहते हैं कि उनको नौकरी नहंी मिल रही है। कहीं न कहीं दिक्कत है। तब हमने एक पॉर्टल बनाने का निर्णय लिया, ताकि दोनों मिल सकें।

WhatsApp Image 2023 09 15 at 10.08.01 PM 2
Punjab: दिल्ली सीएम केजरीवाल और पंजाब सीएम भगवंत मान ने की उद्यमियों से चर्चा। 10

हमें मध्यप्रदेश-हिमाचल प्रदेश को नहीं हराना है, बल्कि चीन को हराना है- अरविंद केजरीवाल

Punjab: सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि आज की बैठक में कई सारे अच्छे सुझाव आए हैं। दो प्रमुख विचार निकल कर आए। पहला, नया निवेश लाने के साथ-साथ पंजाब में मौजूद इंडस्ट्री को भी बचाया जाया। दूसरा, चीन को हमने रिफ्लेक्टर के मामले में पीछे छोड़ दिया। पहले चीन से रिफ्लेक्टर आया करता था, लेकिन अब वो वापस चले गए। इसलिए आज हमें यह तय करना है कि पंजाब की इंडस्ट्री को बचना है या चीन को पीछे छोड़ना है। फिल्म तेजाब के एक गाने का उदाहरण देते हुए सीएम ने कहा कि हमें मध्यप्रदेश, हिमाचल प्रदेश को नहीं हराना है, हमें चीन को हराना है। हमारा कंपिटिशन चीन से है। चीन को पंजाबी ही हरा सकते हैं। हमारे देश के अंदर बहुत प्रतिभा है। लेकिन अगर कोई शुरूआत होगी तो वो पंजाब से होगी। अगर चीन से हम प्रतियोगिता करेंगे तो पंजाब सबसे आगे होगा। हम इस विजन के साथ आए हैं। हमें इंडस्ट्री को सिर्फ बचाना ही नहीं है, बल्कि इंडस्ट्री को इस स्तर पर लेकर जाना है, जब हम चीन के प्रोजेक्ट को हरा सकें।

फोकल प्वाइंट्स-इंडस्ट्री जोन का पैकेज बनाकर सड़क, सीवर, पानी, बिजली का विकास कार्य कर सकते हैं- अरविंद केजरीवाल

Punjab: सीएम अरविंद केजरीवाल ने दो सुझाव देते हुए कहा कि पंजाब में जितने भी मौजूदा फोकल प्वाइंट्स, इंडस्ट्रीयल जोन हैं, उनका एक साथ पैकेज बना दिया जाए। इंडस्ट्रीयल जोन के अंदर सड़क, सीवर, पीने का पानी, बिजली और स्ट्रीट लाइट का एक पूरा पैकेज बना लेते हैं। अगर सारे इंडस्ट्रीयल जोन में इसको ठीक करना है तो कितना पैसा लगेगा। इसके बाद बजट देख लेते हैं। हम एक-दो साल में सारे फोकल प्वाइंट को ठीक कर देंगे। इंफ्रास्ट्रक्चर को हमें एक अलग स्तर पर ले जाने की जरूरत है। दूसरा, अभी अफसरों की कमेटी बनाई थी। लेकिन अगर हम सेक्टर वार उद्यमियों की कमेटी बना दें, जिसमें एक-दो अफसर भी शामिल हों। यह कमेटी लगातार काम करेगी। महीने में एक-दो बार मिलेंगे और सभी बिंदु सरकार के संज्ञान में आएगा और सरकार उसका समाधान करेगी। यह प्रक्रिया लगातार जारी रहेगी। अगर ऐसा होगा तभी हम चीन के उद्योग से मुकाबला कर पाएंगे।

WhatsApp Image 2023 09 15 at 10.08.02 PM 3
Punjab: दिल्ली सीएम केजरीवाल और पंजाब सीएम भगवंत मान ने की उद्यमियों से चर्चा। 11

पंजाब में 650 आम आदमी क्लीनिक बन गए हैं, इसे 3000 तक लेकर जाएंगे- अरविंद केजरीवाल

Punjab: सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि पंजाब में पहले भी अच्छे मुख्यमंत्री हुए हैं लेकिन भगवंत मान ने यह साबित किया है कि वो अब तक के सर्वश्रेष्ठ मुख्यमंत्रियों में से एक हैं। भगवंत मान 24 घंटे जनता के बीच में रहते हैं। पंजाब में जब बाढ़ आई थी। जब भी बाढ़ आती है तब मुख्यमंत्री हैलीकाप्टर से दौरा करता है और एक वीडियो डालकर ट्वीट करता है कि मैंने बाढ़़ग्रस्त क्षेत्रों का दौरा किया। भगवंत मान हैलीकाप्टर में बैठ कर नहीं गए। इन्होंने पैंट उपर की और पानी में उतर गए। भगवंत मान नाव में बैठ कर कई गांवों में गए और लोगों को अपनी नाव में बिठाकर बचाया। पंजाब ने ऐसा मुख्यमंत्री कभी नहीं देखा होगा। पंजाब के अंदर अब शिक्षा की क्रांति भी शुरू हो गई है। बुधवार को हमने अमृतसर में एक सरकारी स्कूल का उद्घाटन किया। मैं चुनौती देता हूं कि उस स्कूल का इंफ्रास्ट्रक्चर किसी भी प्राइवेट स्कूल से शानदार है। अगले कुछ सालों में पंजाब के सभी 20 हजार सरकारी स्कूलों को शानदार कर देंगे। अगले कुछ सालों में अमीर लोग भी अपने बच्चों को प्राइवेट स्कूल से निकाल कर सरकारी स्कूल में भर्ती कराएंगे। जो संसाधन सरकार के पास है, वो प्राइवेट के पास नहीं है। सरकार के पास स्कूल बनाने के लिए जितनी जमीन है, उतनी प्राइवेट वालों के पास नहीं है। स्कूल ऑफ एमिनेंस में सभी आधुनिक सुविधाएं हैं। सभी स्मार्ट क्लासरूम है। वहां पढ़ाने वाले कई शिक्षकों ने बताया कि उन्होंने अपने बच्चों का एडमिशन भी इस सरकारी स्कूल में कराया गया है। पंजाब में गांव-गांव के अंदर अब तक 650 से अधिक आम आदमी क्लीनिक बन गए हैं। इसे 3 हजार तक लेकर जाएंगे। सिविल और जिला अस्पतालों का भी अब खाका तैयार हो रहा है। पंजाब में करीब 40 हास्पिटल हैं, उसमें पांच-छह अस्पतालों को शानदार वातानुकूलित बनाएंगे। उसमें सभी मनीशें, डॉक्टर और दवाइयों की व्यवस्था की जाएगी। इसके बाद सभी अस्पतालों को शानदार बनाएंगे। पहले पंजाब सरकार घाटे में चल रही थी, अब हम सरकारी खजाने को भरने के साथ-साथ जनता के लिए सुविधाएं भी दे रहे हैं। पुरानी सरकारों को बिजनेसमैन और उद्योगपतियों को चोर नजरों देखा था लेकिन हम आपको अपना भाई, पार्टनर और पंजाब की तरक्की में कंधे से कंधा मिलाकर चलना चाहते हैं।

रिहायशी इलाकों से शिफ्ट होने के लिए लुधियाना की उद्योग को तीन वर्षों की मोहलत दी जायेगी- भगवंत मान

वहीं, मुख्यमंत्री भगवंत मान ने ऐलान किया कि रिहायशी इलाकों से शिफ्ट होने के लिए लुधियाना की उद्योग को तीन वर्षों की मोहलत दी जायेगी। राज्य सरकार आने वाले समय में ऐसे इलाकों की स्थिति के बारे में फ़ैसला लेने के लिए समिति का गठन करेगी। राज्य सरकार लुधियाना में उद्योग की तरक्की के लिए वचनबद्ध है जिसके लिए हर संभव यत्न किये जाएंगे। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार उद्योग को सुखद माहौल देने के लिए वचनबद्ध है। उद्योग तभी विकास करता है, जब उनका भरोसा सरकार की नीतियाँ और अमन-कानून की व्यवस्था में हो और राज्य सरकार उद्योगपतियों के लिए दिन-रात काम कर रही है। राज्य सरकार पंजाब को औद्योगिक सैक्टर में पंजाब का प्रथम राज्य बनाने के लिए कोई कसर बाकी नहीं छोड़ेगी।

WhatsApp Image 2023 09 15 at 10.08.02 PM 2
Punjab: दिल्ली सीएम केजरीवाल और पंजाब सीएम भगवंत मान ने की उद्यमियों से चर्चा। 12

Punjab: मुख्यमंत्री भगवंत मान ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा उद्योगपतियों के सलाह-मशवरे के साथ राज्य में नयी औद्योगिक नीति लागू की गई है। उद्योगों को इसका प्रयोग करना चाहिए और भविष्य में ज़रूरत पडऩे पर इस में उचित संशोधन किया जायेगा। आने वाले दिनों में यह मिलनी जारी रहेंगी। उन्होंने कहा कि लुधियाना से हिंडन के लिए उड़ानें पहले ही शुरू की जा चुकीं हैं और अब शहर को दिल्ली के साथ जोडऩे के लिए प्रयत्न किये जाएंगे। फिलहाल दिल्ली के लिए नयी उड़ानों की इजाज़त नहीं दी जा रही है, परन्तु फिर भी राज्य सरकार इस मुद्दे को केंद्र सरकार के समक्ष उठाएगी। उद्योगों को सुविधा प्रदान करने के लिए इस नेक कार्य में कोई कसर बाकी नहीं छोड़ी जायेगी।

Punjab: मुख्यमंत्री ने कहा कि पहली बार राज्य सरकार द्वारा व्यापारियों और उद्योगपतियों की सुविधा के लिए यह मिलनी करवाई जा रही हैं। पहले बड़े समागम केवल फोटो खिंचवाने के लिए ही करवाए जाते थे और इनका उद्योगों या राज्य को कोई लाभ नहीं मिलता था। राज्य सरकार ने इस रुझान को बदल दिया है और अब मीटिंगों का उद्देश्य उद्योगपतियों को लाभ पहुंचाना है। औद्योगिक क्षेत्र में राज्य का स्थानीय स्तर पर किसी अन्य राज्य से कोई मुकाबला नहीं है। राज्य का उद्देश्य अब चीन के साथ मुकाबला कर उसे औद्योगिक क्षेत्र में पछाडऩा है। यह प्रगतिशील और मेहनती उद्योगपतियों के सहयोग से ही संभव हो सकेगा।

Punjab: विरोधी पार्टियों को आड़े हाथों लेते हुए मुख्यमंत्री भगवंत मान ने कहा कि जो लोग अपनी सत्ता के दौरान महलनुमा घरों में रह रहे थे, उनको लोगों ने राज्य के राजनैतिक अखाड़े से बाहर कर दिया गया है। राज्य ने एक नये युग की सुबह देखी है क्योंकि अजय माने जाते इन नेताओं को लोगों ने सत्ता से बाहर का रास्ता दिखा दिया है। इस कारण पंजाब में बदलाव देखने को मिला है और पहली बार शासन प्रणाली में लोग केंद्रित फ़ैसलों को प्राथमिकता दी गई है। पिछली सरकारों के दौरान लोग सफल होने से डरते थे, क्योंकि नेता उनके कामकाज में अपना हिस्सा डाल लेते थे। इन नेताओं ने जनता को ख़ासकर सफल उद्योगपतियों को लूटा है। पिछली राज्य सरकारों द्वारा उद्योगपतियों पर कई तरह की पाबंदियाँ लगाई गई थीं और फिर उनको बाद में चोर तक भी कहा गया। अब राज्य में असली मायनों में सिंगल विंडो सिस्टम वाली उद्योग समर्थ सरकार है। पिछली सरकारों में यह व्यवस्था केवल एक धोखा था क्योंकि किसी ने भी इसका सही प्रयोग नहीं किया। पहले समझौतों पर परिवारों के साथ दस्तखत किये जाते थे, परन्तु अब राज्य और यहाँ के लोगों के साथ किये जाते हैं।

यह भी पढ़ें: https://www.khabronkaadda.com/congressunion-today-announced-the-formation-of-a-coordination-committee-to-run-the-elections-smoothly/