Saturday, June 15, 2024
34.1 C
New Delhi

Rozgar.com

34.1 C
New Delhi
Saturday, June 15, 2024

Advertisementspot_imgspot_imgspot_imgspot_img

कर्नाटक हाईकोर्ट ने यौन उत्पीड़न मामले में राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री की गिरफ्तारी पर रोक लगा दी

बेंगलूरू कर्नाटक हाईकोर्ट ने यौन उत्पीड़न मामले में राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा की गिरफ्तारी पर रोक लगा दी है। कोर्ट ने उनको राहत...
HomeStatesरेल कर्मचारियों को अग्निशमन यंत्रों का प्रयोग एवं प्राथमिक उपचार करने का...

रेल कर्मचारियों को अग्निशमन यंत्रों का प्रयोग एवं प्राथमिक उपचार करने का दिया गया विशेष प्रशिक्षण

बिलासपुर

बिलासपुर रेल मंडल द्वारा यात्रियो की सुरक्षित यात्रा सुनिश्चित करने के लिए हर स्तर पर कार्य किया जा रहा है। साथ ही किसी भी आपातकालीन स्थिति में आगजनी की घटना से रोकथाम के लिए स्टेशनों और ट्रेनों के एसी कोच, पेंट्रीकार आदि में अग्निशमन यंत्र भी उपलब्ध कराए गए है। इसी संदर्भ में रेल कर्मचारियों को अग्निशमन उपकरण का प्रयोग करने में दक्ष करने हेतु समय-समय पर प्रशिक्षण अभियान चलाया जा रहा है जिससे कि ट्रेन में उपलब्ध अग्निशमन उपकरण का प्रयोग सभी कर्मचारी प्रभावी रूप से कर सकें।

इसी कड़ी में मंडल रेल प्रबंधक श्री प्रवीण पाण्डेय के मार्गदर्शन में तथा वरिष्ठ मंडल संरक्षा अधिकारी श्री साकेत रंजन के निर्देशन में मंडल संरक्षा विभाग द्वारा बहु-विभागीय मंडल प्रशिक्षण संस्थान बिलासपुर में मंडल के ट्रैक मेंटेनरों को अग्निशमन यंत्र का उपयोग करने का प्रशिक्षण दिया गया। प्रशिक्षण के दौरान नागरिक सुरक्षा निरीक्षक घनश्याम विश्वकर्मा द्वारा ट्रैक मेंटेनरों का क्लास लेकर सुरक्षा मानकों और अग्निशमन यंत्र का प्रयोग करने की जानकारी दी गई। साथ ही सभी को आग से होने वाली दुर्घटनाओं को रोकने के लिए ली जाने वाली सावधानियों के बारे में भी विस्तारपूर्वक बताया गया। उन्हे यह भी बताया गया कि यदि आप आग को नियंत्रण नहीं कर पा रहे हैं तब पास के अग्निशमन केन्द्रों को संपर्क करने के लिए हेल्पलाइन नं. 112 को मुंह जुबानी याद रखने की सलाह दी गई। इसके साथ ही साथ दुर्घटना के दौरान यात्रियों के शरीर के विभिन्न अंगों में चोट लगने पर उनके बचाव के लिए त्रिकोणीय पट्टी के द्वारा हेड बेंडेज, सोल्डर बेंडेज, जाँ बेंडेज, चेस्ट बेंडेज, पाम बेंडेज एवं एल्बो बेंडेज के माध्यम से प्राथमिक उपचार करने के तरीकों का भी प्रशिक्षण दिया गया।