Monday, April 15, 2024
24 C
New Delhi

Rozgar.com

24.1 C
New Delhi
Monday, April 15, 2024

Advertisementspot_imgspot_imgspot_imgspot_img
HomePoliticsशिवसेना नेता और राज्यसभा सांसद संजय राउत ने कलकत्ता हाई कोर्ट के...

शिवसेना नेता और राज्यसभा सांसद संजय राउत ने कलकत्ता हाई कोर्ट के जज अभिजीत गंगोपाध्याय पर हमला बोला

मुंबई
शिवसेना (यूबीटी) नेता और राज्यसभा सांसद संजय राउत ने सोमवार को कलकत्ता हाई कोर्ट के जज अभिजीत गंगोपाध्याय पर हमला बोला। संजय राउत ने जज के रिटायरमेंट का ऐलान करके राजनीति में जाने की बात को लेकर अपनी नाराजगी जताई। उन्होंने कहाकि अगर सुप्रीम कोर्ट या हाई कोर्ट का कोई सिटिंग जज इस्तीफा देकर किसी खास पार्टी से जुड़ता है तो इसका मतलब है कि वह न्याय नहीं दे रहा था, बल्कि पार्टी के लिए काम कर रहा था। गौरतलब है कि कलकत्ता हाई कोर्ट के जज जस्टिस गंगोपाध्याय ने रविवार अपने इस्तीफे का ऐलान करते हुए कहाकि वह अब राजनीति करेंगे।

यह बोले थे जस्टिस गंगोपाध्याय
जस्टिस गंगोपाध्याय ने कहाकि मैं कलकत्ता हाईकोर्ट में जज के पद से इस्तीफा देने जा रहा हूं। पिछले दो या अधिक साल से मैं कुछ मामलों से निपट रहा हूं। खासतौर पर शिक्षा विभाग से जुड़ा भ्रष्टाचार से। उन्होंने आगे कहा था कि इस सरकार में शिक्षा क्षेत्र के खास लोग जेल में बंद हैं। अब मैं श्रम संबंधी मामलों को देख रहा हूं। भविष्य निधि ग्रेच्युटी आदि से संबंधित नियोक्ताओं के बड़े घोटाले भी हैं। मैंने उन मामलों में कुछ आदेश भी जारी किए हैं। उन्होंने कहाकि अब मुझे एक बड़े क्षेत्र की तरफ जाना है। इसलिए मुझे लगता है कि राजनीति वह क्षेत्र है, जो मुझे उन लोगों तक पहुंचा सकती है, जिन्हें मेरी जरूरत है। मैं अब ऐसे लोगों के लिए ही काम करना चाहता हूं।

भाजपा से जुड़ने का अनुमान
हालांकि जस्टिस गंगोपाध्याय ने इस बात का खुलासा नहीं किया कि वह कौन सी पार्टी को ज्वॉइन करेंगे। हालांकि सूत्रों का कहना है कि वह भाजपा से जुड़ सकते हैं। जस्टिस गंगोपाध्याय जुलाई में रिटायर होने वाले हैं। उन्होंने 2018 में एडिशनल जज के रूप में हाई कोर्ट ज्वॉइन किया था। साल 2020 में वह स्थायी हो गए थे। रविवार को उन्होंने कहा था कि सत्ताधारी दल में कुछ लोगों के चलते ही वह आज यहां पर आए हैं। मैं उन्हें बधाई देता हूं। उन्होंने वकीलों की तरफ इशारा करते हुए कहाकि काले कोट वालों ने एजेंट की तरह काम किया और मुझे निशाना बनाया। अब मैंने मन बना लिया है।