Tuesday, April 16, 2024
28.1 C
New Delhi

Rozgar.com

29 C
New Delhi
Tuesday, April 16, 2024

Advertisementspot_imgspot_imgspot_imgspot_img
HomePoliticsसुक्खू सरकार की खत्म नहीं हुई मुश्किलें, 11 MLA हिमाचल से उत्तराखंड...

सुक्खू सरकार की खत्म नहीं हुई मुश्किलें, 11 MLA हिमाचल से उत्तराखंड पहुंचे

शिमला/ देहरादून
 हिमाचल की राजनीति में आया बवंडर अभी शांत नहीं हुआ है। कांग्रेस के 6 विधायक जिन्होंने राज्यसभा चुनाव में बीजेपी उम्मीदवार हर्ष महाजन को समर्थन करने के कारण निलंबित कर दिया गया था वो अब उत्तराखंड पहुंच गए हैं। उनके साथ वो तीन निर्दलीय विधायक भी मौजूद है जिन्होंने राज्यसभा चुनाव में बीजेपी का साथ दिया था। ये सभी फिलहाल ऋषिकेश के पास एक होटल में ठहरे हुए हैं। सूत्रों की मानें आने वाले दिनों में और भी कई और नेता भी उनसे जुड़ सकते हैं।

हिमाचल विधानसभा अध्यक्ष कुलदीप सिंह पठानिया ने छह कांग्रेस विधायकों राजिंदर राणा, सुधीर शर्मा, इंदर दत्त लखनपाल, देविंदर कुमार भुट्टू, रवि ठाकुर और चेतन्य शर्मा को बजट पर मतदान से अनुपस्थित रहने के बाद निष्कासित कर दिया था। इन सभी ने राज्यसभा चुनाव में अपनी पार्टी के उम्मीदवार अभिषेक मनु सिंघवी के खिलाफ मतदान किया था। तीन स्वतंत्र विधायक होशियार सिंह, के एल ठाकुर और आशीष शर्मा- ने भी 27 फरवरी के चुनाव में भाजपा उम्मीदवार का समर्थन किया था।

सूत्रों ने टीओआई को बताया कि ये विधायक हरियाणा के पंचकूला में एक होटल में डेरा डाले हुए थे। उन्हें देवप्रयाग मार्ग के साथ ऋषिकेश से लगभग 30 किमी दूर एक होटल तक सड़क मार्ग से अपनी यात्रा जारी रखने से पहले एक चार्टर्ड विमान के माध्यम से देहरादून पहुंचे। फिर उन्हें सड़क मार्ग से चार धाम मार्ग के एक प्रमुख होटल में ले जाया गया।

सीएम सुक्खू ने बीजेपी पर लगाया आरोप
हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू ने शुक्रवार को भाजपा पर लोकतंत्र की हत्या करने का आरोप लगाया। उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस के बागी विधायकों को सीआरपीएफ की सुरक्षा में रखा गया है। सुक्खू ने कहा कि कुछ विधायक दुखी हैं। उन्हें सीआरपीएफ की सुरक्षा में रखा गया है। क्या इसी तरह लोकतंत्र मजबूत रहेगा? खरीद-फरोख्त लोकतंत्र को कमजोर करती है। उन्होंने कहा बीजेपी बागी कांग्रेस विधायकों को कड़ी सुरक्षा घेरे में रखकर 'उनकी सरकार को गिराने की कोशिश' कर रही है। सुक्खू ने कहा कि उनके परिवार के सदस्य उन पर अपने गृह राज्य वापस आने का दबाव डाल रहे थे।