Friday, April 19, 2024
37.9 C
New Delhi

Rozgar.com

37.9 C
New Delhi
Friday, April 19, 2024

Advertisementspot_imgspot_imgspot_imgspot_img
HomePoliticsBJD से सीट शेयरिंग पर नहीं बनी बात... अब क्या ओडिशा में...

BJD से सीट शेयरिंग पर नहीं बनी बात… अब क्या ओडिशा में अकेले ही चुनाव लड़ेगी BJP?

नई दिल्ली

दिल्ली में बीजद के साथ चुनाव पूर्व गठबंधन और सीट बंटवारे की बातचीत बेनतीजा रहने के बाद ओडिशा भाजपा ने कहा है कि वह राज्य की सभी 147 विधानसभा और 21 लोकसभा सीटों पर अपने उम्मीदवार उतार सकती है. भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष मनमोहन सामल, ने कहा, "गठबंधन पर कोई बातचीत नहीं हुई और भाजपा अकेले ही चुनाव लड़ेगी. सामल पार्टी के अन्य वरिष्ठ नेताओं के साथ शुक्रवार शाम को राष्ट्रीय राजधानी से भुवनेश्वर लौटे थे.

क्या बोले मनमोहन सामल?
सामल ने कहा, "हम राज्य में लोकसभा और विधानसभा चुनावों के लिए अपनी तैयारियों पर केंद्रीय नेताओं के साथ चर्चा करने के लिए दिल्ली गए थे. बैठक के दौरान किसी भी पार्टी के साथ गठबंधन या सीट-बंटवारे पर कोई बातचीत नहीं हुई." सामल ने यह भी दावा किया कि ओडिशा भाजपा दोनों चुनाव जीतने को लेकर आश्वस्त है. भाजपा दोनों चुनाव अपने बल पर लड़ेगी.''

बीजद ने साधी चुप्पी
बीजद नेता वीके पांडियन और प्रणब प्रकाश दास, वे भी भुवनेश्वर लौट आए. दोनों ही भाजपा के केंद्रीय नेताओं के साथ चुनाव पूर्व गठबंधन के मुद्दों पर चर्चा करने के लिए गुरुवार शाम एक चार्टर्ड विमान से दिल्ली पहुंचे थे. वापस लौटने पर, उन्होंने सीट शेयरिंग जैसी चर्चाओं पर कोई बात नहीं की है.

सीट बंटवारे को लेकर मतभेद
हालांकि, सूत्रों ने कहा कि ओडिशा की सत्तारूढ़ बीजद और विपक्षी भाजपा के बीच गठबंधन की बातचीत में सीट बंटवारे को लेकर बाधाएं आ रही हैं. हालांकि दोनों पार्टियां चुनाव पूर्व गठबंधन के लिए आपसी सहमति से सहमत हो गई हैं, लेकिन सीट बंटवारे को लेकर मतभेद था. भगवा खेमे के सूत्रों ने दावा किया कि बीजद ने 147 सदस्यीय ओडिशा विधानसभा में 100 से अधिक सीटों पर चुनाव लड़ने की मांग की, लेकिन भाजपा को यह स्वीकार्य नहीं था.

निवर्तमान विधानसभा में, क्षेत्रीय पार्टी के 114 सदस्य हैं और शुरुआत में, उसने भाजपा के साथ बातचीत के दौरान 112 सीटों की मांग की थी. भाजपा के एक वरिष्ठ नेता ने कहा, ''बीजद लगभग 75 प्रतिशत विधानसभा सीटों की मांग कर रही है जो हमें स्वीकार नहीं है.''

बीजेपी ने मांगी कितनी सीटें?
दूसरी ओर, बीजेपी ने ओडिशा की 21 लोकसभा सीटों में से 14 सीटें मांगी थीं, जिसे बीजेडी ने खारिज कर दिया है. 2019 के आम चुनावों में बीजद ने 12 सीटें जीती थीं जबकि भाजपा ने आठ सीटें जीती थीं. बीजद के एक वरिष्ठ नेता ने कहा, ''अगर हम 10 से कम लोकसभा सीटों पर चुनाव लड़ते हैं तो यह हमारे लिए आत्मघाती होगा.'' सामल के नेतृत्व में ओडिशा भाजपा नेता तीन दिनों तक दिल्ली में रहे और राज्य चुनाव प्रभारी और राज्यसभा सांसद विजय पाल सिंह तोमर के आवास पर कई केंद्रीय नेताओं के साथ मैराथन बैठकें कीं.

दो दिन पहले, पूर्व केंद्रीय मंत्री और भाजपा सांसद जुएल ओराम ने तोमर के आवास पर एक बैठक में भाग लेने के बाद कहा था कि बीजद के साथ गठबंधन पर चर्चा हुई, लेकिन कुछ भी अंतिम रूप नहीं दिया गया. इस बीच, ओडिशा बीजेपी के महासचिव पृथ्वीराज हरिचंदन ने कहा, ''आज दोपहर तक गठबंधन पर कोई फैसला नहीं लिया गया.'' हालांकि ओडिशा भाजपा नेताओं का एक वर्ग बीजद के साथ गठबंधन का विरोध कर रहा है, लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 5 मार्च को राज्य के दौरे के एक दिन बाद स्थिति बदल गई, जिसके बाद राज्य की राजनीति में गठबंधन की चर्चा हावी हो गई.

पहली बार साल 2000 में BJD-BJP ने साथ लड़ा था चुनाव
इस बीच बीजद ने संकेत दिया है कि वह राज्य और उसके लोगों के हित के लिए गठबंधन बनाने सहित सब कुछ करेगा. दोनों पार्टियां 1998 से 2009 के बीच करीब 11 साल तक गठबंधन में रहीं और तीन लोकसभा और दो विधानसभा चुनाव साथ मिलकर लड़े. 1998 में जब जनता दल विभाजित हो गया, तो पटनायक ने अपनी पार्टी बनाई और इस्पात और खान मंत्री के रूप में वाजपेयी के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार में शामिल हो गए. दोनों दलों ने पहली बार 2000 और फिर 2004 में एक साथ विधानसभा चुनाव लड़ा था.

इससे पहले बीजेडी और बीजेपी के बीच सीट बंटवारे का अनुपात 4:3 था. जहां बीजद ने 84 विधानसभा और 12 लोकसभा सीटों पर चुनाव लड़ा, वहीं भाजपा ने 63 विधानसभा और 9 लोकसभा सीटों पर चुनाव लड़ा. गठबंधन ने 1998 के आम चुनावों में 48.7 प्रतिशत वोट शेयर के साथ 21 में से 17 सीटें जीतीं. गठबंधन ने 1999 में फिर से अपनी सीटों की संख्या में सुधार करते हुए 19 सीटें हासिल कीं, जो 2004 में थोड़ा कम होकर 18 पर आ गईं.