Tuesday, May 28, 2024
33.1 C
New Delhi

Rozgar.com

34.1 C
New Delhi
Tuesday, May 28, 2024

Advertisementspot_imgspot_imgspot_imgspot_img
HomeSportsअश्विन ने ऐसे मनाया 100वें टेस्ट का जश्न,पत्नी को गले लगाया, बेटियों...

अश्विन ने ऐसे मनाया 100वें टेस्ट का जश्न,पत्नी को गले लगाया, बेटियों को दुलारा…

धर्मशाला

शीर्ष स्पिनर रविचंद्रन अश्विन भारत के लिए 100वां टेस्ट खेलने वाले खिलाड़ियों की विशिष्ट सूची में शामिल होने के लिए पूरी तरह तैयार हैं। इस ऑफ-स्पिनर को पहले ही भारत में लाल गेंद से क्रिकेट खेलने वाले महान खिलाड़ियों में से एक माना जा चुका है, उनके खाते में 500 से अधिक टेस्ट विकेट हैं। 37 वर्षीय खिलाड़ी ने पिछले दशक में घरेलू मैदान पर टेस्ट क्रिकेट में भारत के प्रभुत्व में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। भारत ने पिछले एक दशक से घरेलू मैदान पर कोई टेस्ट सीरीज नहीं हारी है क्योंकि आखिरी बार उसे 2012 में इंग्लैंड के खिलाफ हार का सामना करना पड़ा था और तब से अश्विन लाल गेंद प्रारूप में भारत के सबसे बड़े मैच विजेता के रूप में उभरे हैं।
 

धर्मशाला में अश्विन के ऐतिहासिक टेस्ट मैच से पहले, बीसीसीआई ने एक वीडियो पोस्ट किया जिसमें उनकी यात्रा और 100वां टेस्ट खेलने के बारे में बात की गई। उसी वीडियो में, भारत के महान क्रिकेटरों अनिल कुंबले, सुनील गावस्कर और रवि शास्त्री ने अपना दिल खोलकर प्रशंसा की। रवि शास्त्री, जिन्होंने भारत के मुख्य कोच के रूप में अपने कार्यकाल के दौरान अश्विन के साथ मिलकर काम किया था। 37 वर्षीय खिलाड़ी की उपलब्धियों की सराहना की और सुझाव दिया कि अश्विन ने बहुत पहले ही संकेत दे दिया था कि वह अगली बड़ी चीज होंगे।

पूर्व कोच ने की तारीफ

शास्त्री ने कहा, “ऐसा अक्सर नहीं होता, आप स्पिनरों के बारे में ऐसा कह सकते हैं लेकिन आप स्पष्ट रूप से जानते थे कि वह अगला खिलाड़ी होगा। वह जो अंतरिक्ष यात्री है और जिस तरंग दैर्ध्य पर वह चढ़ता है, वह स्वाभाविक रूप से उसके पास आती है और आप कौशल कारकों को बेहतर से बेहतर होते हुए देख सकते हैं।”

महान बल्लेबाज गावस्कर ने भी अश्विन के अब तक के सफल सफर के बारे में बात की और कहा, “आप क्यों खेलते हैं? महत्वाकांक्षा क्या है? महत्वाकांक्षा अपने देश के लिए सफलतापूर्वक खेलने की होनी चाहिए।”

क्या अश्विन अपने 100वें टेस्ट में कर पाएंगे ऐसा?

इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट, धर्मशाला में सिर्फ भारतीय टीम का ही नहीं बल्कि अश्विन का भी दूसरा टेस्ट होगा. इससे पहले साल 2017 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ यहां खेले पहले टेस्ट में अश्विन ने यहां 4 विकेट चटकाए थे. जाहिर है धर्मशाला में अपने 100वें टेस्ट को यादगार बनाने के लिए अश्विन को इससे भी कुछ बड़ा करना होगा. अगर वो इस टेस्ट की दोनों पारियों में से किसी एक में 5 विकेट लेते हैं तो अपने 100वें टेस्ट मैच में ऐसा करने वाले शेन वॉर्न, अनिल कुंबले और मुथैया मुरलीधरन के बाद दुनिया के चौथे गेंदबाज बन जाएंगे.
इस कामयाबी को पाने वाले पहले क्रिकेटर अश्विन

बहरहाल, 100वें टेस्ट मैच में उतरने के साथ ही अश्विन ने इतिहास तो रच ही दिया है. भले ही ये ख्याति पाने वाले वो ओवरऑल 14वें भारतीय हों लेकिन चेन्नई से इस कामयाबी को हासिल करने वाले वो पहले क्रिकेटर हैं. यही नहीं तमिलनाडु में जन्में वो वो पहले क्रिकेटर भी हैं, जिसने पोस्ट-इंडिपेंडेंस एरा में भारत के लिए 100 टेस्ट खेले हैं.
100वें टेस्ट से पहले कैसा रहा अश्विन का रिकॉर्ड?

जहां तक 100वें टेस्ट से पहले अश्विन के प्रदर्शन की बात है तो उन्होंने 99 मैचों में 23.91 की औसत से 507 विकेट लिए, जिसमें 35 बार 5 या उससे ज्यादा विकेट लेने का कारनामा दर्ज है. वो मुथैया मुरलीधरन के बाद सिर्फ दूसरे ऐसे गेंदबाज हैं, जिसके नाम अपना 100वां टेस्ट खेलने से पहले ही 500 से ज्यादा विकेट हैं.