Saturday, June 15, 2024
32.1 C
New Delhi

Rozgar.com

32.1 C
New Delhi
Saturday, June 15, 2024

Advertisementspot_imgspot_imgspot_imgspot_img
HomeUP Congress in Loksabha Chunav: अकेले मैदान में उतरना चाहते हैं कांग्रेस...

UP Congress in Loksabha Chunav: अकेले मैदान में उतरना चाहते हैं कांग्रेस नेता।

UP Congress in Loksabha Chunav: Preparations have started for the Lok Sabha elections 2024 in Uttar Pradesh.

UP Congress in Loksabha Chunav: उत्तर प्रदेश में लोकसभा चुनाव 2024 की तैयारियां शुरू हो गई है। कांग्रेस की ओर से चुनाव के समीकरणों की तलाश शुरू की गई है, जिससे पार्टी को विशेष तौर पर तैयारियों को पूरा कराया जा रहा है। ऐसे में बेंगलुरु में हुई बैठक में विपक्षी गठबंधन को नया नाम, नई पहचान मिली है। इस विपक्षी एकता गठबंधन में समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव और राष्ट्रीय लोक दल प्रमुख जयंत चौधरी भी शामिल हुए थे। ऐसे में कयासों का दौर शुरू हो गया है। माना जा रहा है कि लोकसभा चुनाव 2024 में समाजवादी पार्टी, राष्ट्रीय लोक दल और कांग्रेस का गठबंधन यूपी में हो सकता है। हालांकि, गठबंधन को लेकर स्थानीय कांग्रेसी नेताओं के बीच उलझन साफ दिख रही है।

Screenshot 2023 07 20 at 3.39.05 PM
UP Congress in Loksabha Chunav: अकेले मैदान में उतरना चाहते हैं कांग्रेस नेता। 2

UP Congress in Loksabha Chunav: कांग्रेस के स्थानीय नेता पुरजोर तरीके से अकेले चुनाव लड़ने की वकालत करते दिख रहे हैं। पिछले एक पखवाड़े में स्थानीय कांग्रेस नेताओं की दो बैठकें हो चुकी हैं। इसमें अकेले चुनाव लड़ने पर चर्चा हुई। समाजवादी पार्टी से गठबंधन को लेकर तमाम सीनियर नेताओं के बीच एकमत नहीं दिख रहा है। हालांकि, इस मामले में कोई भी नेता खुलकर कुछ भी कहने से बच रहे हैं। उनका कहना है कि हाइकमान आखिरी निर्णय लेगा ऐसे में अखिलेश यादव के साथ 2024 के चुनाव में गठबंधन होगा या नहीं। यह फैसला अब राहुल गांधी और कांग्रेस अध्यक्ष मलिकार्जुन खरगे करेंगे।

आखिर अखिलेश पर सर्वसम्मति क्यों नहीं?

UP Congress in Loksabha Chunav: कांग्रेस के भीतर अखिलेश यादव के साथ गठबंधन को लेकर सर्वसम्मति नहीं दिख रही है। दरअसल, यूपी में लंबे समय बाद कांग्रेस ने यूपी चुनाव 2022 में पूरी ताकत के साथ चुनावी मैदान में उतरी। इसने प्रदेश भर में कांग्रेस कार्यकर्ताओं में भरोसा दिलाया है कि पार्टी भी भाजपा की तर्ज पर अकेले दम पर प्रदेश में उतर सकती है। ऐसे में एक बार फिर पार्टी किसी बड़े क्षेत्रीय दल के साथ कुछ सीटों पर उम्मीदवार उतारने के मूड में नहीं दिख रही है। साथ ही, पिछले दिनों अखिलेश यादव को लेकर मुस्लिम वोट बैंक के भीतर से नाराजगी के मामले सामने आए हैं। इस प्रकार की स्थिति को देखते हुए पार्टी किसी प्रकार का जोखिम उठाने के मूड में नहीं दिख रही है।

अंडरकरेंट होने का दावा

UP Congress in Loksabha Chunav: कांग्रेस के प्रदेश स्तर के नेताओं का दावा है कि पार्टी को लेकर एक अंडरकरेंट है। कर्नाटक चुनाव रिजल्ट के बाद स्थिति बदली है। भाजपा के खिलाफ जमीन पर असंतोष का भाव होने का दावा किया जा रहा है। वहीं, कांग्रेस के प्रति लोगों की उम्मीद दिखती है। कांग्रेस मुस्लिम, पिछड़ा से लेकर सवर्ण वोट बैंक में पार्टी के प्रति माहौल बनने का दावा करती दिखती है। पार्टी नेताओं का कहना है कि कांग्रेस के प्रति लोगों के झुकाव का कारण अन्य पार्टियों पर अविश्वास है। दरअसल, 80 के दशक के बाद से कांग्रेस यूपी की सत्ता से बाहर रही है। ऐसे में पार्टी नेताओं का दावा है कि पार्टी के प्रति लोगों का भरोसा बढ़ा है।

यह भी पढ़ें: http://CUET PG Result 2023 Updates: CUET पीजी 2023 रिजल्ट जल्द, जानें कहां कर सकेंगे डाउनलोड।