16.8 C
New Delhi
Tuesday, March 5, 2024

Advertisementspot_imgspot_imgspot_imgspot_img
HomeUPTET News: सुप्रीम कोर्ट के इस फ़ैसले से टुटा B.Ed के लाख़ों...

UPTET News: सुप्रीम कोर्ट के इस फ़ैसले से टुटा B.Ed के लाख़ों छात्रों का दिल।

UPTET News: A sad news has come to the fore for the people associated with B.Ed.

UPTET News: बीते दिन B.Ed से जुड़े लोगों के लिए एक दुःखी कर देनी वाली ख़बर सामने आयी हैं। बता दें कि अब बीएड के स्टूडेंट्स प्राथमिक स्कूलों में कक्षा 5वीं तक पढ़ाने के लिए शिक्षक नहीं बन पाएंगे। इस संबंध में सुप्रीम कोर्ट ने बड़ा फैसला सुनाया है।

hbjh
UPTET News: सुप्रीम कोर्ट के इस फ़ैसले से टुटा B.Ed के लाख़ों छात्रों का दिल। 2

UPTET News: सुप्रीम कोर्ट ने फ़ैसला सुनाते हुए कहा कि अब प्राथमिक ग्रेड यानि कि कक्षा 5वीं तक बीएड वाले टीचर नहीं बन पाएंगे। यानि कि अब 5वीं तक पढ़ाने के लिए सिर्फ डीएलएड स्टूडेंट्स को ही मौका दिया जाएगा। इस संबंध में सुप्रीम कोर्ट ने बड़ा फैसला सुनाया है। दरअसल कोर्ट ने राजस्थान सरकार के पक्ष में फैसला सुनाते हुए निचली अदालत के फैसले को बरकरार रखते हुए कहा है कि केवल डिप्लोमा इन एलीमेंट्री एजुकेशन (D.EI.Ed) प्रमाणपत्र धारक ही प्राथमिक ग्रेड शिक्षक बनने के पात्र होंगे। सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले को बीएड स्टूडेंट्स के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है।

UPTET News: यूपीटीईटी की प्राथमिक और उच्च प्राथमिक स्तर की परीक्षा में कुल 660592 अभ्यर्थी सफल घोषित किये गये थे। प्राथमिक स्तर की परीक्षा देने वाले 1147090 में से 6.91 लाख से अधिक बी.एड डिग्री धारक थे और 4.55 अभ्यर्थी डी.एल.एड के थे। परीक्षा नियामक प्राधिकरण (ईआरए) के रिकॉर्ड के मुताबिक 2.20 लाख बीएड अभ्यर्थी और 2.23 लाख डी.एल.एड अभ्यर्थी सफल घोषित किए गए थे।

UPTET News: इसी तरह उच्च प्राथमिक स्तर की परीक्षा देने वाले 765921 में से 216994 उत्तीर्ण घोषित किया गया है। आपको बता दें कि कुछ डी.एल.एड अभ्यर्थियों ने राजस्थान उच्च न्यायालय के बीएड धारकों को प्राथमिक विद्यालय में पढ़ाने के लिए अयोग्य ठहराने के फैसले के आधार पर इलाहाबाद उच्च न्यायालय में एक याचिका दायर की थी।

UPTET News: जिसके बाद प्रयागराज मुख्यालय परीक्षा नियामक प्राधिकारी ने अदालत का फैसला आने तक प्रमाणपत्र वितरण स्थगित कर दिया था। इस बीच, सुप्रीम कोर्ट ने उस याचिका पर विवाद सुलझाते हुए फैसला सुनाया, जिसमें राजस्थान हाई कोर्ट के फैसले को चुनौती दी गई थी।

हालांकि, ईआरए अधिकारियों ने कहा कि भले ही शीर्ष अदालत ने बीएड धारकों को प्राथमिक स्तर के शिक्षण से बाहर कर दिया हो, लेकिन सभी योग्य अभ्यर्थियों को यूपीटीईटी प्रमाणपत्र दिए जाएंगे। बता दें कि D.El.Ed प्राथमिक और उच्च प्राथमिक विद्यालयों में शिक्षक बनने के इच्छुक अभ्यर्थियों के लिए दो साल का डिप्लोमा कार्यक्रम है। वर्तमान में यह पाठ्यक्रम लगभग 3,000 निजी कॉलेजों, 67 सरकारी संचालित जिला शिक्षा और प्रशिक्षण संस्थानों (डीआईईटी) व उत्तर प्रदेश के वाराणसी में एक शिक्षक शिक्षा कॉलेज (सीटीई) की तरफ से पेश किया जाता है।

यह भी पढ़ें :Aaganvadi Kitchen: आतिशी ने केजरीवाल सरकार के सेंट्रलाइज्ड आंगनवाडी किचन का निरीक्षण किया।