17.9 C
New Delhi
Thursday, February 22, 2024

Advertisementspot_imgspot_imgspot_imgspot_img
HomeStatesDelhi NewsVeer Bal Diwas: भारत मंडपम में मनाया गया वीर बाल दिवस, कार्यक्रम...

Veer Bal Diwas: भारत मंडपम में मनाया गया वीर बाल दिवस, कार्यक्रम में प्रधानमंत्री मोदी ने लिया हिस्सा।

Veer Bal Diwas celebrated at Bharat Mandapam, Prime Minister Modi participated in the program.

गुरु गोविंद सिंह जी के बेटों की शहादत को याद करने के लिए आज वीर बाल दिवस मनाया गया… इस मौके पर दिल्ली के भारत मंडपम में कार्यक्रम आयोजित हुआ, जिसमें PM मोदी समेत कई नेता पहुंचे हैं।

इस कार्यक्रम की शुरुआत कीर्तन गाकर हुई थी। इसके बाद केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने गुरु गोविंद सिंह के बेटों को याद करते हुए सभा को संबोधित किया…

पीएम मोदी ने कार्यक्रम में कहा- आज देश वीर साहिबजादों के अमर बलिदान को याद कर रहा है, उनसे प्रेरणा ले रहा है। आजादी के अमृतकाल में ‘वीर बाल दिवस’ के रूप में एक नया अध्याय प्रारंभ हुआ है। गुरु गोविंद सिंह जी और उनके चारों बेटों की वीरता और साहस हर भारतीय को ताकत देती है। वीर बाल दिवस उन वीरों के शौर्य की सच्ची श्रद्धांजलि है। वीर बाल दिवस अब विदेश में भी मनाया जा रहा है।

PM मोदी ने आगे कहा- पिछले वर्ष देश ने पहली बार 26 दिसंबर को वीर बाल दिवस के तौर पर मनाया था। तब पूरे देश में सभी ने भाव विभोर होकर साहिबजादों की वीर गाथाओं को सुना था। वीर बाल दिवस भारतीयता की रक्षा के लिए कुछ भी कर गुजरने के संकल्प का प्रतीक है। ये दिन हमें याद दिलाता है कि शौर्य की पराकाष्ठा के समय कम आयु मायने नहीं रखती

कार्यक्रम से पहले गृहमंत्री अमित शाह ने भी गोविंद सिंह के बेटों को को याद किया। उन्होंने X पर लिखा- वीर बाल दिवस पर मैं गुरु गोबिंद सिंह जी के चार साहिबजादे और माता गुजरी जी को नमन करता हूं। सर्वोच्च साहस के साथ वे क्रूर मुगल शासन के खिलाफ खड़े हुए थे। उन्होंने धर्म परिवर्तन के बजाय शहादत को चुना। उनकी वीरता आने वाली पीढ़ियों को प्रेरित करती रहेगी।

आपको बता दे गुरु गोबिंद सिंह जी के चारों लड़के शहीदी को प्राप्त हुए थे। लेकिन यह दिवस खासतौर से साहिबजादे जोरावर सिंह और फतेह सिंह की शहादत को याद करने के लिए मनाया जाता हैं जो 6 और 9 साल की छोटी उम्र में शहीद हुए।

मुगल शासक औरंगजेब के आदेश पर पंजाब के सिरहिंद में दोनों साहिबजादों को जहां दीवार में जिंदा चुनवा दिया गया था, उस जगह को फतेहगढ़ साहिब के नाम से जाना जाता है।