29 C
New Delhi
Friday, March 1, 2024

Advertisementspot_imgspot_imgspot_imgspot_img
HomeLatest NewsIn-Situ Ammonia Treatment Plant: वज़ीराबाद रिज़र्वायर में इन-सीटू अमोनिया ट्रीटमेंट प्लांट में...

In-Situ Ammonia Treatment Plant: वज़ीराबाद रिज़र्वायर में इन-सीटू अमोनिया ट्रीटमेंट प्लांट में देरी जल मंत्री आतिशी ने जताई नाराज़गी।

Water Minister Atishi expressed displeasure over the delay in in-situ ammonia treatment plant in Wazirabad Reservoir.

  • अमोनिया का स्तर बढ़ने पर भी न रुके पानी का उत्पादन ऐसे में बेहद महत्वपूर्ण ये प्रोजेक्ट, इसमें हो रही देरी से लाखों दिल्लीवासियों को हो रही समस्या-जल मंत्री आतिशी
  • जलमंत्री का मुख्य सचिव से सवाल- मुख्यमंत्री, मिनिस्टर इंचार्ज की अध्यक्षता में मार्च में हुई उच्च स्तरीय बैठक के बाद भी शुरू क्यों नहीं हुआ प्रोजेक्ट
  • 4-6 महीने के भीतर पूरा होना था प्रोजेक्ट, 9 महीने बीतने के बाद भी ज़मीनी स्तर पर क्यों शुरू नहीं हुआ कोई काम?
  • यमुना में अमोनिया का स्तर बढ़ने से प्रभावित हुआ जल उत्पादन, दिल्ली की एक चौथाई आबादी हो रही प्रभावित; यदि वज़ीराबाद रिज़र्वायर में इन-सीटू अमोनिया ट्रीटमेंट प्लांट शुरू होता तो नहीं आती ये समस्या-जल मंत्री आतिशी
  • वज़ीराबाद रिज़र्वायर में इन-सीटू अमोनिया ट्रीटमेंट प्लांट स्थापित करने में हो रही देरी पर जल मंत्री आतिशी ने मुख्य सचिव को दिए निर्देश-
  • -मुख्य सचिव 01 जनवरी तक दे रिपोर्ट, बताए वज़ीराबाद रिज़र्वायर में इन-सीटू अमोनिया ट्रीटमेंट प्लांट स्थापित करने में क्यों हुई इतनी देरी?
  • -मुख्य सचिव टाइमलाइन तैयार कर बताए- वज़ीराबाद में इन-सीटू अमोनिया ट्रीटमेंट प्लांट कब तक होगा तैयार? साथ ही वे व्यक्तिगत रूप से इस प्रोजेक्ट को करें मॉनिटर
  • -मुख्य सचिव सुनिश्चित करें वज़ीराबाद रिज़र्वायर में इन-सीटू अमोनिया ट्रीटमेंट प्लांट के लिए 15 जनवरी तक जारी हो टेंडर

जल मंत्री आतिशी ने वज़ीराबाद रिज़र्वायर में इन-सीटू अमोनिया ट्रीटमेंट प्लांट स्थापित करने में हो रही देरी पर नाराज़गी जताई है। बता दें कि, यमुना में अमोनिया का स्तर बढ़ने पर भी पानी का उत्पादन न रुके ऐसे में ये प्रोजेक्ट बेहद महत्वपूर्ण है। इसमें हो रही देरी से लाखों दिल्लीवासियों को समस्या होती है। इस बाबत जलमंत्री आतिशी ने मुख्य सचिव को लिखित निर्देश देते हुए कहा कि, मुख्य सचिव 01 जनवरी तक रिपोर्ट दे कि, वज़ीराबाद रिज़र्वायर में इन-सीटू अमोनिया ट्रीटमेंट प्लांट स्थापित करने में इतनी देरी क्यों हुई है? मुख्य सचिव एक टाइमलाइन के साथ बताए कि, वज़ीराबाद में इन-सीटू अमोनिया ट्रीटमेंट प्लांट कब तक तैयार होगा और वे स्वयं व्यक्तिगत रूप से इस प्रोजेक्ट को मॉनिटर करें। मुख्य सचिव सुनिश्चित करें कि इन-सीटू अमोनिया ट्रीटमेंट प्लांट के लिए टेंडर 15 जनवरी तक जारी हो जाए।

जल मंत्री ने सवाल करते हुए कहा कि, मुख्यमंत्री, मिनिस्टर इंचार्ज की अध्यक्षता में मार्च में हुई उच्च स्तरीय बैठक के बाद भी प्रोजेक्ट शुरू क्यों नहीं हुआ? जो प्रोजेक्ट 4-6 महीने के भीतर पूरा होना था, 9 महीने बीतने के बाद भी उसपर ज़मीनी स्तर पर कोई काम क्यों शुरू नहीं हुआ?

जल मंत्री आतिशी ने कहा कि, बुधवार को यमुना नदी में अमोनिया का स्तर 2.8 पीपीएम तक पहुंच गया। यमुना में अमोनिया के बढ़े हुए स्तर ने चंद्रावल और वज़ीराबाद में वाटर ट्रीटमेंट प्लांट के उत्पादन क्षमता को प्रभावित किया। इस कारण वज़ीराबाद और चंद्रावल प्लांट की उत्पादन क्षमता उनकी कुल क्षमता से लगभग 50% तक कम हो गई। इस कारण पानी का उत्पादन भी औसतन लगभग 35-40% कम हो गया।

उन्होंने कहा कि, इस बड़ी समस्या के कारण दिल्ली के लगभग एक चौथाई हिस्से पर प्रतिकूल प्रभाव हुआ है, जिससे सदर बाजार, सिविल लाइन्स, पुरानी दिल्ली, मुखर्जी नगर, बुराड़ी, पटेल नगर, राजिंदर नगर, करोल बाग, मजनू का टीला, आईएसबीटी, बरफखाना, बारा हिंदू राव, कमला नगर, रूप नगर जैसे घनी आबादी वाले इलाके प्रभावित हुए।

जल मंत्री आतिशी ने कहा कि, यमुना नदी में अमोनिया का बढ़ता स्तर अब बार-बार होने वाली ऐसी समस्या बन गई है जो हर साल दिल्ली में रहने वाले लाखों लोगों के जीवन को प्रभावित करती है। उन्होंने कहा कि, हरियाणा द्वारा नदी में छोड़ा गया अपशिष्ट पदार्थ और हरियाणा द्वारा नदी के प्रवाह का मेंटेनेंस न करना दिल्ली में यमुना में अमोनिया के बढ़ने का प्रमुख कारण हैं।

उन्होंने कहा कि, माननीय मुख्यमंत्री ने 15.03.2023 को डीजेबी की एक बैठक की अध्यक्षता की, जहां इस मुद्दे पर विस्तार से चर्चा की गई। बैठक में निर्णय लिया गया कि इस संकट का तत्काल समाधान वजीराबाद रिर्सवायर के अंदर अमोनिया का इन-सीटू ट्रीटमेंट है। इस प्रोजेक्ट को 4-6 महीने के अंदर लागू किया जाना था। लेकिन इतना समय बीत जाने में बावजूद, यह प्रोजेक्ट अभी तक शुरू नहीं हुआ है, जिस कारण दिल्ली का एक बड़ा हिस्सा एक बार फिर जल संकट में फंस गया है।

जलमंत्री ने कहा कि, मुझे यह कहते हुए निराशा हो रही है कि इस महत्वपूर्ण प्रोजेक्ट को शुरू करने के लिए ज़मीनी स्तर पर कोई काम शुरू नहीं हुआ है जो दिल्ली जल बोर्ड की ओर से एक गंभीर चूक है। उन्होंने कहा कि, यदि मुख्यमंत्री, मिनिस्टर इंचार्ज और मुख्य सचिव की अध्यक्षता में इन उच्च स्तरीय बैठकों में लिए गए निर्णयों का भी कार्यान्वयन नहीं किया जाता तो ये बेहद गंभीर मुद्दा है।

केजरीवाल सरकार ने इसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा क्योंकि ऐसे प्रमुख प्रोजैक्ट्स के कार्यान्वयन न होने से लाखों दिल्लीवासियों को समस्याओं का सामना करना पड़ता है। उन्होंने कहा, जब जल बोर्ड द्वारा ही इस प्रोजेक्ट को पूरा करने के लिए 4-6 महीने का समय तय किया गया था तो ऐसे में विभाग द्वारा इसका सख़्ती से पालन क्यों नहीं किया गया। जल मंत्री ने कहा की, सरकार और नौकरशाही यहां लोगों की सेवा करने के लिए है, न कि उन्हें कोई असुविधा पहुंचाने के लिए।

इस बाबत जल मंत्री ने मुख्य सचिव को निर्देश देते हुए कहा कि-

  1. मुख्य सचिव 01 जनवरी तक रिपोर्ट दे कि, वज़ीराबाद रिज़र्वायर में इन-सीटू अमोनिया ट्रीटमेंट प्लांट स्थापित करने में इतनी देरी क्यों हुई है?
  2. मुख्य सचिव एक टाइमलाइन के साथ बताए कि, वज़ीराबाद में इन-सीटू अमोनिया ट्रीटमेंट प्लांट कब तक तैयार होगा और वे स्वयं व्यक्तिगत रूप से इस प्रोजेक्ट को मॉनिटर करें।
  3. मुख्य सचिव सुनिश्चित करें कि इन-सीटू अमोनिया ट्रीटमेंट प्लांट के लिए टेंडर 15 जनवरी तक जारी हो जाए।